अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण (Akarmak Kriya)

अकर्मक क्रिया (Akarmak Kriya) वे क्रियाएं होती हैं जिनमें कर्म की आवश्यकता नहीं होती है। दूसरे शब्दों में, ये क्रियाएं स्वतंत्र रूप से पूर्ण होती हैं।

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

अकर्मक क्रिया की परिभाषा: अकर्मक क्रिया, क्रिया के मुख्य भेदो में से एक है। जिसकी जानकारी होना आवश्यक है। अभी तक हमने अपने दूसरे आर्टिकल में सकर्मक क्रिया के बारे में पढ़ा। आज हम आपको अकर्मक क्रिया की सभी जानकारी देने वाले है। इसलिए अंत तक हमारे साथ बने रहे।

अकर्मक क्रिया की परिभाषा

ऐसा वाक्य जिसमे कर्म नहीं होता है सकर्मक क्रिया में कर्ता, कर्म और क्रिया तीनों उपस्थित होते है, लेकिन इसमें कर्म न होने के कारण काम का पूरा प्रभाव केवल करता पर पड़ता है, तो इस क्रिया को अकर्मक क्रिया कहते है। अर्थात इस क्रिया में कर्म के बिना ही वाक्य का पूर्ण भाव स्पष्ट हो जाता है।

यह भी देखें: क्या आप जानते हो वाक्य किसे कहते है और इसके कितने भेद होते है।

उदाहरण:

  • रमेश दौड़ता है।

इस वाक्य में पूरा प्रभाव केवल राम पर पड़ रहा है। जिस वजह से यह अकर्मक क्रिया है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Visheshya | विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण

विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण (Visheshya ki Paribhasha)

Akarmak Kriya | अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
Akarmak Kriya

अकर्मक क्रिया के उदाहरण

  • विनि खाती है।
  • मेरा बहिन रो रही है।
  • बच्चा हंस रहा है।
  • यह जगता है।
  • वह बाइक चला रहा है।
  • मैं लिख रही हूँ।
  • वह मेरे पीछे -पीछे आ रहे थे।

अकर्मक क्रिया के भेद

अकर्मक क्रिया के दो भेद है-

  • अपूर्ण अकर्मक क्रिया
  • पूर्ण क्रिया

अपूर्ण अकर्मक क्रिया

जब किसी वाक्य में क्रिया के साथ संज्ञा या विशेषण शब्दों का प्रयोग कहते हुए कर्ता के विषय में पूर्ण विधान किया जता है , तो उसे अपूर्ण क्रिया कहते है। इस क्रिया का प्रयोग संज्ञा या विशेषण शब्द को पूर्ण करने के लिए प्रयुक्त किया जाता है।

उदाहरण –

  • वह अच्छा है।
  • वह बीमार है।
  • मोहन चोर निकला।
  • रमेश मेहनती है।
  • आशा एक अच्छी लड़की है।

ऊपर दिए गए उदाहरण में अच्छा, बीमार, चोर, मेहनती आदि शब्द अपूर्ण है।

पूर्ण अकर्मक क्रिया

ऐसे वाक्य जिसमे क्रिया के साथ न तो ‘कर्म’ और न ही किसी पूर्ण शब्द / पूरक शब्द की आवश्यकता होती है, तो उसे ही पूर्ण अकर्मक कहते है। यह क्रिया वास्तविक रूप से पूर्ण होती है।

पूर्ण अकर्मक क्रिया के उदाहरण

  • रोहन खा रहा है।
  • पंछी आकाश में उड़ती है।
  • वह रात भर नहीं सोया।
  •  निधि नाच रही है।
  • वह जल्दी नहाता है।
  • विमान ऊंची उड़ान भरता है।

अकर्मक क्रिया से संबंधित सवाल:

अकर्मक क्रिया किसे कहते है ?

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

ऐसी क्रिया जिसमे कर्म का अभाव होता है, जिस वजह से सटीक तरीके से कर्म अथवा काम का पता नहीं चलता है। उसे ही अकर्मक क्रिया कहते है।

अकर्मक क्रिया कितने प्रकार की होती है?

यह क्रिया दो प्रकार की होती है – पूर्ण अकर्मक पर अपूर्ण अकर्मक।

सोहन हँसता है ये किस क्रिया का रूप हैं ?

सोहन हँसता है ये पूर्ण अकर्मक क्रिया का रूप है।

यह भी देखें
संधि की परिभाषा और भेद
विशेषण किसे कहते हैं
सर्वनाम किसे कहते हैं 
विराम चिन्ह : भेद (12), प्रयोग और नियम
व्यक्ति वाचक संज्ञा
तत्पुरुष समास: परिभाषा, भेद और उदाहरण
संज्ञा (Sangya) – परिभाषा, भेद और उदाहरण
जातिवाचक संज्ञा: परिभाषा और उदाहरण

पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा और भेद
प्रत्यय – परिभाषा, भेद और उदाहरण
लिंग की परिभाषा: भेद, उदाहरण और नियम
वचन की परिभाषा, भेद और प्रयोग के नियम
विशेषण – परिभाषा, भेद और उदाहरण
सर्वनाम – सर्वनाम के भेद, परिभाषा, उदाहरण
भाववाचक संज्ञा: परिभाषा और उदाहरण
वाक्य की परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण

संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
अव्ययीभाव समास: परिभाषा, भेद और उदाहरण
द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा एवं भेद
कर्मधारय समास: परिभाषा, भेद और उदाहरण
अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

Sakarmak Kriya In Hindi

सकर्मक क्रिया की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण (Sakarmak Kriya in Hindi)

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें