Bharat Ke Pratham Rashtrapati Kaun The | भारत के प्रथम राष्ट्रपति कौन थे ?

Bharat Ke Pratham Rashtrapati Kaun The: – दोस्तों नमस्कार, दोस्तों आप तो जानते ही होंगे की स्वतंत्र भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद (Dr. Rajendra Prasad) जी थे। आज के इस लेख में हम आपको भारत के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के जीवन परिचय, राजनीतिक सफर आदि के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। राजेंद्र प्रसाद अपने समय के एक प्रसिद्ध भारतीय राजनेता, स्वंतत्र कार्यकर्ता, पत्रकार रहे। स्वंतत्रता आंदोलन में प्रसाद जी की प्रमुख भूमिका रही। ब्रिटिश काल 1931 में महात्मा गांधी जी के साथ राजेंद्र प्रसाद ने नमक सत्याग्रह आंदोलन (Salt Satyagraha Andolan) में भी भाग लिया था। दोस्तों चलिए आर्टिकल में आगे बढ़ते हैं और जानते हैं India first President राजेंद्र प्रसाद जी के बारे में।

bharat ke pratham rashtrapati kaun the
Bharat Ke Pratham Rashtrapati Kaun The

Dr. Rajendra Prasad का प्रारम्भिक जीवन (Early life)

दोस्तों आपको बता दें की Rajendra Prasad जी का जन्म Kayastha family में 3 दिसम्बर 1884 को ब्रिटिश काल में बिहार राज्य के सिवान जिले के छोटे से गाँव जिराड़ी (Ziradei) में हुआ था। राजेंद्र प्रसाद जी के पिता जी का नाम महादेव सहाय श्रीवास्तव था और माता जी नाम कमलेश्वरी देवी था। आपको बताते चलें की राजेंद्र प्रसाद जी के पिता महादेव सहाय श्रीवास्तव संस्कृत (Sanskrit) और फ़ारसी भाषा (Persian languages) के प्रकांड विद्वान थे।

बचपन में राजेंद्र प्रसाद जी की मां एक धर्मपरायण महिला थीं और वह राजेंद्र प्रसाद जी को रामायण और महाभारत से जुड़ी कहानियां सुनाया करती थीं।राजेंद्र जी अपनी तीन बड़ी बहनों के छोटे भाई थे और राजेंद्र जी सभी बच्चों में सबसे छोटे थे। जब राजेंद्र जी काफी छोटे थे तो उस समय उनकी मां का देहांत हो गया था। जिसके बाद राजेंद्र की देखभाल उनकी सबसे बड़ी बहन ने की थी।

यह भी पढ़ें :- वर्तमान में भारत के राष्ट्रपति कौन हैं

राजेंद्र जी का विद्यार्थी जीवन (Student life)

आपकी जानकारी के लिए बता दें की राजेंद्र प्रसाद जी की प्रारम्भिक स्कूल की पढ़ाई बिहार राज्य के छपरा डिस्ट्रिक्ट स्कूल से पूरी की। इसके बाद जून 1896 में 12 वर्ष की आयु में राजेंद्र जी का विवाह राजवंशी देवी (Rajavanshi Devi) से कर दिया गया। विवाह के बाद राजेंद्र जी के बड़े भाई महेंद्र प्रसाद के द्वारा राजेंद्र जी को पढ़ने के लिए पटना की T.K. Ghosh’s Academy भेज दिया गया। जहाँ 2 साल रहकर अपनी पढ़ाई पूरी की।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इसके बाद राजेंद्र जी अपनी आगे की पढ़ाई के लिए कलकत्ता (अब कोलकाता) आ गए। कलकत्ता यूनिवर्सिटी से राजेंद्र जी को 30 रूपये प्रतिमाह की स्कालरशिप प्रदान की जाती थी।कलकत्ता यूनिवर्सिटी से राजेंद्र जी ने इकोनॉमिक्स से M.A. कर अपने कॉलेज की पढ़ाई पूरी की।यूनिवर्सिटी में रहते हुए राजेंद्र जी राजनीती में भी काफी सक्रीय रहे।

प्रसाद जी का वकील के तौर पर जीवन (As a lawyer)

सन 1915 में इलाहबाद यूनिवर्सिटी से Master in Law करने के बाद प्रसाद जी ने ओड़िशा और बिहार के हाई कोर्ट ज्वाइन किया और यहाँ अपनी वकालत की प्रैक्टिस की। पटना यूनिवर्सिटी के द्वारा प्रसाद जी को first members of the Senate के रूप में चुना गया। भागलपुर जिसे बिहार का सिल्क शहर कहा जाता है यहाँ कुछ समय तक प्रसाद जी ने वकालत की प्रैक्टिस की।

राजनितिक सफर (Political SAFAR)

अपनी कॉलेज की पढ़ाई के दौरान राजेंद्र जी सन 1906 में Bihari Students Conference के सदस्य रहे जो उनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत थी। इसके बाद राजेंद्र जी ने बिहार के दो प्रसिद्ध नेताओं अनुराग नारायण सिन्हा और कृष्णा सिंह के साथ मिलकर चम्पारण मूवमेंट और Non-cooperation Movement में भाग लिया। सन 1906 में राजेंद्र प्रसाद भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के साथ पहली बार जुड़े।

राष्ट्रपति (President) के लिए चुना जाना

जब 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ उससे एक दिन पहले 25 जनवरी 1950 को मध्यरात्रि में संविधान सभा की बैठक की सर्वसमिति यह फैसला लिया गया कि हमारे देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद को बनाया जाय। आपकी जानकारी के लिए बता दें की सन 1950 और सन 1957 में दो बार राजेंद्र प्रसाद जी हमारे देश के राष्ट्रपति का चुना गया। प्रसाद जी ऐसे राष्ट्रपति रहे जिनका कार्यकाल सबसे लम्बा (12 वर्ष) तक चला। 9 सितम्बर 1962 में उनकी पत्नी राजवंशी देवी की मृत्यु हो गयी। सन 1962 के Indo-China War के समय प्रसाद जी को भारत के सबसे बड़े सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

भारत के प्रथम राष्ट्रपति कौन थे FAQs

वर्तमान में देश की राष्ट्रपति कौन हैं ?

वर्तमान में देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी हैं जिनको 25 जुलाई 2022 सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश के द्वारा राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई गयी थी।

देश के राष्ट्रपति की नियुक्ति के बारे में संविधान के किस आर्टिकल में बताया गया है ?

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के बारे में संविधान के (Article )अनुच्छेद 55 में बताया गया है।

राजेंद्र प्रसाद जी कार्यकाल राष्ट्रपति के तौर पर कब से कब तक रहा ?

राष्ट्रपति के तौर पर राजेंद्र प्रसाद जी का कार्यकाल (1950 से 1962 तक) 12 वर्षों का रहा।

भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति कौन थी ?

भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति श्री मति प्रतिभा सिंह पाटिल थीं।

राजेंद्र प्रसाद जी की मृत्यु कब हुई ?

देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद जी की मृत्यु 28 फरवरी 1963 को पटना में हुई।

Photo of author

Leave a Comment