अब्राहम लिंकन जीवनी – Biography of Abraham Lincoln in Hindi Jivani

आज हम आपको अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति तथा दास प्रथा का अंत करने वाले व्यक्ति अब्राहम लिंकन के बारे में बताने जा रहे है। इनका जन्म अमेरिका में एक बहुत गरीब परिवार में हुआ था। यह वर्ष 1861 में अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए थे तथा इनका कार्यकाल वर्ष 1865 तक रहा। इनका कि जात-पात, ... Read more

Photo of author

Reported by Saloni Uniyal

Published on

आज हम आपको अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति तथा दास प्रथा का अंत करने वाले व्यक्ति अब्राहम लिंकन के बारे में बताने जा रहे है। इनका जन्म अमेरिका में एक बहुत गरीब परिवार में हुआ था। यह वर्ष 1861 में अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए थे तथा इनका कार्यकाल वर्ष 1865 तक रहा। इनका कि जात-पात, गोर-काले लोगों में किसी भी प्रकार का फर्क नहीं करना चाहिए सभी एक सामान है। आपको बता दे इनका जन्म एक अश्वेत गरीब परिवार में हुआ था। अमेरिका के राष्ट्रपति बनने से पहले वे एक वकील एवं इलिअन्स स्टेट के एक विधायक थे। इसके अतिरिक्त वे हॉउस ऑफ़ रिप्रेसेंटेटिव्स के सदस्य भी रह चुके थे। यह बहुत दयालु थे लोगों के दुख दर्द को कम करने सोचते थे। आज हम आपको इस लेख में अब्राहम लिंकन जीवनी (Biography of Abraham Lincoln in Hindi Jivani) से सम्बंधित जानकारी बताने जा रहे है, इच्छुक नागरिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

अब्राहम लिंकन जीवनी

Abraham Lincoln का जन्म 12 फरवरी, 1809 में होडजेंविल्ले के केंटुकी (अमेरिका) में हुआ था। इनके पिता का नाम थॉमस लिंकन था जो कि एक किसान थे एवं इनकी माता का नाम नेंसी हैंक्स लिंकन था। यह तीन भाई बहन थे इनकी एक बड़ी बहन जिसका नाम सारा था तथा एक छोटा भाई थॉमस था। इसकी मृत्यु कुछ कारणवश बचपन में ही हो गयी थी।

यह भी देखें- मदर टेरेसा का जीवन परिचय

वर्ष 1818 में 5 अक्टूबर को इनकी माता का देहांत 34 वर्ष की आयु में हो गया था उस समय लिंकन केवल 9 ही वर्ष के थे। इसके ठीक एक वर्ष के पश्चात इनके पिता ने सारह बुश जॉनसन से वर्ष 1819 में विवाह कर लिया था। सारह बुश जॉनसन लिंकन की सौतेली माँ बनी तथा इनके तीन बच्चे थे, यह भी पहले से ही एक विधवा थी। सौतेली माँ होने के बावजूद भी वह लिंकन को असली माँ की तरह प्यार करती थी। उन्होंने अब्राहम को पढ़ने के लिए प्रोत्साहन दिया। परन्तु उनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी क्योंकि उनके पिता एक मामूली छोटे किसान थे, इस कारण वे शिक्षा पूरी करने के लिए लिंकन को स्कूल भी ना भेज पाए। और इंडियाना में पढ़ाई के लिए बुक्स उपलब्ध नहीं हो पाती थी इसलिए उन्हें काफी दूर जाना पड़ता था और घर आने में अधिक समय लगता था इसलिए उन्होंने अपनी शिक्षा को अपने घर पर ही पूरा किया।

Biography of Abraham Lincoln in Hindi Jivani

अब्राहम लिंकन जीवनी - Biography of Abraham Lincoln in Hindi Jivani
अब्राहम लिंकन जीवनी
नामअब्राहम लिंकन
जन्म12 फरवरी 1809
जन्म स्थानहोडजेंविल्ले, केंटुकी (अमेरिका)
पेशाराजनीति और वकालत
राजनीति1837
माता का नामनेंसी हैंक्स लिंकन, बुश जॉनसन (सौतेली माँ)
पिता का नामथॉमस लिंकन
भाई-बहनथॉमस (भाई), सारा लिंकन (बहन)
राजनैतिक पार्टीगणतंत्रवाद पार्टी
पत्नीमैरी टॉड
संतानरॉबर्ट, एडवर्ड, टेड, विल्ली
राष्ट्रीयताअमेरिकन
मृत्यु14 अप्रैल 1865
मृत्यु स्थानवांशिगटन डीसी
लम्बाई6 फुट 4 इंच
उपलब्धिअमेरिका के 16वें राष्ट्रपति वर्ष 1860 में बने
धर्मईसाई
राजनैतिक दलरिपब्लिक पार्टी

शिक्षा

जब Abraham 6 वर्ष के थे तो उन्हें स्कूल में शिक्षा ग्रहण करने लिए भेज दिया गया था। काम करने के मामले में यह बहुत नखरे करते है भले ही वे पढाई में विद्वान थे, उन्हें इस कारण आलसी कहकर बुलाया जाता था। उनके किसान एक किसान थे तो वे अकसर अपने पिता के काम में मदद करने चले जाते थे और पिता भी यही चाहते थे कि यह मेरे साथ काम करें और खेती-बाड़ी का कार्य संभाले और अपनी शिक्षा पर अधिक ध्यान ना दे, और इस कारण अब्राहम ने अपनी पढ़ाई को भी छोड़ दिया। इधर-उधर घूमते अध्यापकों से ही इनकी प्रारंभिक शिक्षा पूर्ण हुई और उन्होंने ऐसा करते करते ही बहुत कुछ सीख लिया था। जब भी उन्हें खेती के काम से समय मिलता था तो वे दूसरे लोगों की किताबें पढ़ लिया करते थे।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

विवाह

अब्राहम लिंकन की शादी वर्ष 1843 में मेरी टॉड के साथ हुई थी। मेरी ने चार बच्चों को जन्म दिया, जिनमें से केवल एक ही जीवित रहा इसका नाम रॉबट टॉड रखा। बाकी बच्चों की मृत्यु हो गयी थी।

वकालत की पढ़ाई

Abraham 22 साल की आयु में वर्ष 1830 में अपने परिवार के साथ मैकॉन काउंटी में रहने के लिए चले गए थे। उस समय वहां वे मजदूरी का कार्य करते थे। कद-काठी की बात करें तो बहुत ही पतले थे तथा 6,4 फुट लम्बाई के व्यक्ति थे। शारीरिक क्षमता से ये बहुत अधिक कठोर व्यक्ति थे। उन्होंने इस कार्य के अलावा वहां चौकीदार एवं दुकान चलना आदि इसके अतिरिक्त भी अन्य और भी छोटे-बड़े काम कर लेते थे।

वर्ष 1837 में ये राजनीति में शामिल होने चले गए तथा इनको व्हिग पार्टी के नेता के लिए चुना गया। जैसा कि हमने आपको बताया कि इनकी आर्थिक स्थिति पहले से ही बहुत ख़राब थी जिस कारण ये जो गरीब लोग थे उनकी मदद करना चाहते थे इसलिए इन्होंने निर्णय लिया कि अब ये वकालत की पढ़ाई करना आरम्भ करेंगे और एक ईमानदार वकील बन कर दिखाएंगे।

वर्ष 1844 में Abraham वकील की पढ़ाई करने चले गए और वे विलियम हेर्नादों के साथ वकालत करने तैयारी के साथ जुट गए। वकालत सीखने के बाद वे वकालत को करने लग गए जिसके माध्यम से उन्होंने थोड़े बहुत पैसे भी कमाऐं। इसके साथ ही उनको यह कार्य करना अच्छा लगता था वह कहते थे कि मुझे वकालत करके चाहे कितना भी कम पैसा मिले परन्तु मुझे यह कार्य करके बहुत शांति मिलती है। यह अपने कार्य को पूरी ईमानदारी के साथ ही करते थे इन्होने किसी के साथ भी बेमानी नहीं की।

जिन व्यक्तियों की अर्थित स्थिति अच्छी नहीं थी जो बहुत गरीब परिवार थे उनसे लिंकन अधिक फीस नहीं लेते थे। एक बार एक व्यक्ति ने उनको अधिक रूपए दिए जिनमे से आधे रूपए उन्होंने उस व्यक्ति को वापस कर दिए और कहा कि बस मेरे लिए इतने ही काफी है ये सब तुम रखों। एक बार एक महिला अपना केस जीत गई थी और लिंकन के साथ दूसरे वकील ने उस महिला से अधिक पैसे लिए परन्तु उन्होंने यह सब लेने से मना कर दिया और उस महिला को आधे पैसे वापस कर दिए। यह एक सत्यवादी व्यक्ति थे जो हमेशा दूसरों का भला ही करते थे।

राष्ट्रपति करियर

राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए वर्ष 1860 में Abraham Lincoln चुनाव लड़ने जा रहे थे। और उन्होंने उस समय चुनाव जीत भी लिया तथा 1860 में उन्होंने अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति का पद ग्रहण किया और 1865 तक इनका कार्यकाल रहा। 1 फरवरी 1861 में अमेरिका में ग्रह युद्ध आरम्भ हो गया और इसका कारण टेक्सास, मिसिसिप्पी, लोइसिआन, अल्बाना, फ्लोरिडा तथा जेओर्गिया एक दूसरे से अलग हो गए थे जिसका परिणाम ग्रह युद्ध था। यह सब देखकर अब्राहम ने उन्मूलनवादी आंदोलन का प्रारंभ किया और यह आंदोलन कामयाब भी रहा।

वर्ष 1863 में राष्ट्रपति ने घोषणा कि वे गुलामों को आजाद कर देंगे इसके लिए वे आजादी के दस्तावेज बनाने लग गए परन्तु इसके अतिरिक्त मिसौरी, अर्कांसस, केंसास तथा नेब्रास्का के गुलामों को बंधन मुक्त नहीं किया जा सका।

मृत्यु

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

अमेरिका की राजधानी वांशिगटन डीसी के एक सिनेमाघर में 15 अप्रैल 1865 को अब्राहम लिंकन ‘ऑवर अमेरिकन कजिन’ नाटक देखने के लिए गए थे वही पर जॉन वाइक्स बूथ ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। आपको बता दे जॉन वाइक्स बूथ एक प्रसिद्ध अभिनेता थे। जिस दिन लिंकन को गोली मारी गई उस दिन उनके साथ उनके बॉर्डीगार्ड भी साथ में नहीं थे। 10 दिन के बाद बूथ वर्जीनिया में गिरफ्तार कर दिया गया था जो अमेरिकी सैनिकों के बीच हुई संघर्ष में मारा गया।

अब्राहम लिंकन जीवनी से सम्बंधित सवाल/जवाब

Abraham Lincoln का जन्म कब हुआ?

Abraham Lincoln का जन्म अमेरिका के होडजेंविल्ले के केंटुकी में हुआ था।

Abraham Lincoln की पत्नी का नाम क्या था?

इनकी पत्नी का नाम मैरी टॉड था।

अब्राहम लिंकन के पिता का क्या नाम था?

इनके पिता का नाम थॉमस लिंकन था।

Abraham Lincoln की मृत्यु कब हुई?

इनकी मृत्यु 14 अप्रैल 1865 को वांशिगटन डीसी में हुई थी।

अब्राहम लिंकन अमेरिका के राष्ट्रपति कब बने?

1 मार्च 1861 में अब्राहम लिंकन अमेरिका के राष्ट्रपति बने थे।

अब्राहम लिंकन का क्या धर्म था?

अब्राहम लिंकन का ईसाई धर्म था।

Biography of Abraham Lincoln in Hindi Jivani से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी हमने इस के माध्यम से प्रदान कर दी है, और उम्मीद है कि आपको यह जानकारी उपयोगी लगी हो, यदि आपको हमारा लेख पसंद आए या फिर आप इससे रिलेटेड कोई प्रश्न पूछना चाहते है तो आप नीचे दिए हुए कमेंट सेक्शन में अपना प्रश्न लिख सकते है हम कोशिश करेंगे कि आपको जल्द ही प्रश्नों का उत्तर दे पाए। इसी तरह की और जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी साइट से जुड़े रहे धन्यवाद।

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें