इंडियन आर्मी में पद और रैंक | Indian Army Rank List in Hindi

Share on:

इंडियन आर्मी में पद और रैंक के बारे में आज हम आपको विशेष जानकारी प्रदान करने वाले हैं। आज हमारे देश में बहुत से युवा इंडियन आर्मी के लिए तैयारी करते हैं लगभग आज भारतीय सेना में चौदह लाख से अधिक सैनिक है। और भारत का हर युवा आज सेना में भर्ती होना चाहता है क्योंकि अब सेना में सबसे अधिक सुविधा आर्मी वालो को दी जाती है। लेकिन जो युवा इंडियन आर्मी की तैयारी कर रहे हैं या वे आर्मी में जाना चाहते हैं उन्हें पहले इंडियन आर्मी में पद और रैंक (Indian Army Rank List in Hindi) के बारे में पता होना चाहिए। ये जानना आपके लिए बहुत ही जरुरी होता है क्योंकि आर्मी की ड्रेस एक जैसे होती है लेकिन उसमें लगे स्टार, चिन्ह की पहचान से आप पता कर सकते हैं की इनके पास कौन सा पद है और इनकी रैंक क्या है। चलिए आपको नहीं पता तो आज हम आपको बता देते हैं। अधिक जानकारी के लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

इंडियन आर्मी में पद और रैंक | Indian Army Rank List in Hindi
इंडियन आर्मी में पद और रैंक | Indian Army Rank List in Hindi

इंडियन आर्मी में पद और रैंक

भारतीय सेना दुनिया की टॉप पांच सेवाओं में गिनी जाती है। जिसमें कुल 16 रैंक होती है। जिनको तीन श्रेणियों में रखा गया है। इन तीन श्रेणियों के अंतर्गत इंडियन आर्मी को रैंक दिए जाते हैं। इंडियन आर्मी की तीन केटेगिरी कुछ इस प्रकार है। आर्मी में तैनात सभी सैनिक कर्मियों को उनके रैंक के आधार पर ही वेतन प्रदान किया जाता है।

पहली श्रेणी- कमिश्नर ऑफिसर Commissioned officer
दूसरी श्रेणी- जूनियर कमिशनर ऑफिसर Junior commissioned officer
तीसरी श्रेणी- नॉन कमिश्नर ऑफिसर Non commissioned officer

क्रम संख्यारैंक
1.फील्ड मार्शल (औपचारिक रैंक)
2.जनरल
3.लेफ्टिनेंट जनरल
4.मेजर जेनरल
5.ब्रिगेडियर
6.कर्नल
7.लेफ्टिनेंट कर्नल
8.मेजर
9.कैप्टन
10.लेफ्टिनेंट
11.सूबेदार मेजर
12.सूबेदार
13.नायब सूबेदार
14.हवलदार
15.नायक
16.लांस नायक
17.सिपाही

Indian Army Rank Commissioned Officer

1. फील्ड मार्शल (Field Marshal)

फील्ड मार्शल इंडियम आर्मी में सबसे बड़ी रैंक होती है हालाँकि कुछ समय पहले सरकार द्वारा इस रैंक को निरस्त कर दिया गया है। ये पद अधिकारी को किसी सम्मान के स्वरुप दी जाती है। जब वे किसी ,मिशन में अपनी महत्वपूर्ण निभाते हैं और उस मिशन को सफल बनाते है। अभी तक भारत में सिर्फ दो ऑफिसर्स को ये रैंक दी गयी है। ये पद किसी को भी नियमित रूप से नहीं दिया जाता है।

इंडियन आर्मी में पद और रैंक
फील्ड मार्शल (Field Marshal)

2. जनरल (General)

जनरल जिसे हम सेना प्रमुख के नाम से भी जानते हैं। या कमांडर इन चीफ के नाम से भी जाना जाता है। ये इंडियन आर्मी में सबसे बड़ी रैंक होती है। आप इनकी वर्दी पर एक क्रॉस्ड बैटन लगा होता है पांच बिंदुओं के स्टार के साथ एक अशोक स्तम्भ लगा हुआ होता है। जनरल के पद पर अधिकारीयों को तीन साल तक के लिए नियुक्त किया जाता है या फिर 62 तक जनरल रैंक दी जाती है। इसके बाद इन्हे रिटायर कर दिया जाता है।

Indian-Army-General
जनरल (General)

3. लेफ्टिनेंट जनरल (Lieutenant General)

इंडियन आर्मी में जनरल के बाद लेफ्टिनेंट जनरल का पद आता है जिसमें आप इनकी पहचान आप देखेंगे इनके दोनों सोल्डर पर अशोक स्तम्भ, बैटन और तलवार के क्रॉस लगे हुए होते हैं। और कॉलर पर तीन स्टार लगे होते हैं। लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर अधिकारियों को 60 वर्ष के बाद रिटायर कर दिया जाता हैं। इन्हे ये रैंक कमीशंड सर्विस के माध्यम से दी जाती है।

Indian-Army-Lt-General
लेफ्टिनेंट जनरल (Lieutenant General)

4. मेजर जनरल (Major general)

Lieutenant General के बाद मेजर जनरल की रैंक आती है। इनके दोनों सोल्डर पर एक कैंची और डंडा क्रॉस में लगे हुए होते हैं और इसके बीचों बीच एक स्टार लगा हुआ होता है। और इनके दोनों कॉलर पर दो स्टार लगे होते हैं। मेजर जनरल 58 वर्ष की आयु में रिटायर कर दिए जाते हैं।

Indian-Army-majer-General
मेजर जनरल (Major general)

5. ब्रिगेडियर (Brigadier)

मेजर जनरल के बाद आता है ब्रिगेडियर। ब्रिगेडियर की वर्दी पर सोल्डर में एक अशोक स्तम्भ और तीन स्टार लगे होते हैं। ये 56 वर्ष तक ही अपनी सेवा देते हैं उसके बाद रिटायर कर दिए जाते हैं।

Indian-Army-Rank-Of-Brigadier
ब्रिगेडियर (Brigadier)

6. कर्नल (Colonel)

कर्नल इंडियन आर्मी की पांचवे नंबर की रैंक होती है। कर्नल की वर्दी में सोल्डर पर अशोक स्तम्भ के साथ दोनों कंधो पर दो स्टार लगे होते हैं। और कॉलर में मैरून रंग का पैच भी होता है जो कमांडिंग ऑफिसर का सिम्बल होता है। इनका रिटायरमेंट 54 वर्ष की आयु तक कर दिया जाता हैं।

Indian-Army-Rank-Of-Colonel
कर्नल (Colonel)

7. लेफ्टिनेंट कर्नल (Lieutenant Colonel)

लेफ्टिनेंट कर्नल की यूनिफार्म में एक अशोक स्तम्भ और एक-एक स्टार लगे होते हैं।

Indian-Army-Rank-Of-Lieutenant-Colonel
लेफ्टिनेंट कर्नल (Lieutenant Colonel)

8. मेजर (Major)

लेफ्टिनेंट कर्नल के बाद जो रैंक आती है वो है कर्नल। कर्नल की वर्दी पर दोनों सोल्डर पर अशोक स्तम्भ लगे होते हैं। इनका सेलेक्शन के माध्यम से प्रमोशन किया जाता है।

Indian-Army-Rank-Of-Major
मेजर (Major)

9. कैप्टन (Captain)

मेजर के बाद कैप्टेन का पद आता है। इसमे कैप्टेन के कन्धों पर तीन स्टार लगे होते हैं। कैप्टेन का रैंक दो साल कमीशंड ऑफिसर के पद पर काम करने के बाद मिलता है।

Indian-Army-Rank-Of-Captain
कैप्टन (Captain)

10. लेफ्टिनेंट (Lieutenant)

लेफ्टिनेंट कमीशन रैंक में सबसे पहला पद है। इनकी वर्दी पर 2 स्टार लगे होते हैं। लेफ्टिनेंट आईएमए, ओटीए से ट्रेनिंग करते हैं उसके बाद उन्हें लेफ्टिनेंट का ही रैंक प्राप्त होता है। इसके बाद उनका आगे प्रमोशन होता रहता हैं।

Indian-Army-Rank-Of-Lieutenant
लेफ्टिनेंट (Lieutenant)

जूनियर कमिशनर ऑफिसर Junior commissioned officer

11. सूबेदार मेजर (Subedar Major)

जो सूबेदार मेजर होते हैं वे अपनी वर्दी पर एक अशोक स्तम्भ का सिंबल लगाते हैं और एक पिले, लाल रंग की पट्टी लगी होती है। ये लेफ्टिनेंट से नीचे कमीशंड अधिकारी में माने जाते हैं। जूनियर कमिशनर ऑफिसर में सूबेदार मेजर का सबसे बड़ी रैंक होती है ये तीस साल तक अपनी सेवा देते हैं।

Indian-Army-Rank-Of-Subedar-Major
सूबेदार मेजर (Subedar Major)

12. सूबेदार (Subedaar)

इसमे सूबेदार की वर्दी पर दो-दो स्टार लगे होते हैं। और दो लाल स्ट्रिप के बीच एक पिले रंग की स्ट्रिप होती है। सूबेदार 28 वर्ष तक अपनी सेवाये देते हैं इसके बाद रिटायर हो जाते हैं। या फिर सिर्फ 52 वर्ष तक ही नौकरी कर सकते हैं।

Indian-Army-Rank-Of-Subedar
12. सूबेदार (Subedaar)

13. नायब सूबेदार (Naib Subedar)

सूबेदार के बाद नायब सूबेदार की रैंक आती है। इनकी वर्दी पर एक पांच मुख वाला स्टार होता है। जिस पर एक स्ट्रिप भी लगी होती है। इनका रिटायरमेंट 28 वर्ष की सेवा देने के बाद कर दिया जाता है।

Indian-Army-Rank-Of-Naib-Subedar
नायब सूबेदार (Naib Subedar)

नॉन कमिश्नर ऑफिसर Non commissioned officer

14. हवलदार (Havaldar)

नॉन कमिश्नर ऑफिसर में हवलदार का सबसे बड़ा पद होता हैं इनकी वर्दी पर लाल पिले रंग की तीन स्ट्रिप लगी होती है। जो V आकार में होती है। हवलदार का रिटायरमेंट 24 वर्ष की सेवा के बाद कर दिया जाता है।

Indian-Army-Rank-Of-Havildar
हवलदार (Havaldar)

15. नायक (Nayak)

हवलदार के बाद नायक की रैंक आती है इनके बाएं कंधे पर V आकर के 2 स्ट्रीप होती है। नायक का रिटायरमेंट 22 वर्ष की सेवा देने के बाद किया जाता है।

इंडियन आर्मी में पद और रैंक
नायक (Nayak)

16. लांस नायक (Lance Nayak)

नायक के बाद छोटा पद होता है वे लांस नायक का होता है। इनके बाएं तरफ एक स्ट्रीप होती है। ये 22 वर्ष तक अपनी सेवाएं दे सकते हैं।

इंडियन आर्मी में पद और रैंक
लांस नायक (Lance Nayak)

17. सिपाही (Sipahi)

सिपाही रैंक में कोई भी सिंबल या चिन्ह नहीं होता है। उनकी वर्दी पर केवल उनके रेजिमेंट का सिंबल होता है। सिपाही की सेवा का कार्य वर्ष केवल 20 वर्ष का होता है।

इंडियन आर्मी में पद और रैंक से जुड़े कुछ प्रश्न और उनके उत्तर

इंडियन आर्मी से जुडी आधिकारिक वेबसाइट क्या है ?

इंडियन आर्मी से जुडी आधिकारिक वेबसाइट- indianarmy.nic.in है।

इंडियन आर्मी में कितनी कितने प्रकार की कैटेगिरी है ?

इंडियन आर्मी में तीन प्रकार की कैटेगिरी होती है।
पहली श्रेणी- कमिश्नर ऑफिसर Commissioned officer
दूसरी श्रेणी- जूनियर कमिशनर ऑफिसर Junior commissioned officer
तीसरी श्रेणी- नॉन कमिश्नर ऑफिसर Non commissioned officer

क्या हर श्रेणी के अंतर्गत अलग-अलग रैंक होते हैं ?

जी हाँ हर श्रेणी के अंतर्गत अलग-अलग रैंक प्राप्त होती है।

इंडियन आर्मी में पद और रैंक का क्या महत्व है ?

भारतीय सेना में 16 रैंक होते हैं जिन्हे उनके रैंक और पद के अनुसार बैच दिए जाते हैं।

मेजर जरनल रैंक में तैनात सैनिक कर्मी को कितने वर्ष में रिटयरमेंट दिया जाता है ?

58 वर्ष में मेजर जरनल रैंक में कार्यरत सैनिक कर्मी नागरिक को रिटयरमेंट दिया जाता है।

तो जैसे की हमने अपने आर्टिकल के माध्यम से आपको इंडियन आर्मी में पद और रैंक से जुडी सभी जानकारी दी है। अगर आपको भारतीय सेना से जुडी कोई भी अन्य जानकारी चाहिए तो आप हमें नीचे कमेंट सेक्शन में जाकर मेसेज कर सकते हैं।

Leave a Comment