झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2022 : ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, लाभ व विशेषता

Share on:

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना-का शुभारंभ राज्य सरकार के द्वारा 17 दिसंबर 2020 को किया गया है। इस योजना के अंतर्गत पुलिस आधुनिकीकरण (Modernization) पर विशेष बल दिया जायेगा। जिसमें आमजन नागरिकों की सुरक्षा के लिए अधिकारियों को बढ़ते साइबर अपराध से निपटने के लिए एक मजबूत प्रणाली बनाने का निर्देश दिया जायेगा। Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana के तहत प्रदेश के बच्चों को कम्युनिटी पुलिसिंग का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। जिसके तहत साइबर क्राइम में बच्चे ट्रेनिंग प्रशिक्षण प्राप्त करके साइबर क्राइम के अपराधों को कम करने में पुलिस की सहायता करने में सहायक होंगे ,आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी को साझा करेंगे। अतः योजना से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे इस लेख को पूरा पढ़े।

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना - Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana
Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2022

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना– को शुरू करने का मुख्य लक्ष्य यह है की प्रदेश के सभी नागरिकों को साइबर क्राइम से हो रहें अपराधों से बचाना। यह आम जन नागरिकों को एक विशेष प्रकार की सुविधा प्रदान करने हेतु झारखंड सरकार के द्वारा यह एक पहल शुरू की गयी है। जिसमें खासकर महिलाएं एवं बच्चों को योजना का अधिक लाभ प्राप्त होगा। बच्चों और महिलाओं के साथ आये दिन कोई न कोई घटना घटित होती रहती है। जिसके चलते राज्य में साइबर क्राइम में दिन-प्रति दिन वृद्धि होती है। ऐसे ही अपराधों को रोकने के लिए Cyber Crime Prevention Yojana को लागू किया गया है। जिसके तहत आम जन नागरिकों को भी सुरक्षा प्रदान की जा सके। झारखंड सरकार के द्वारा स्कूली बच्चों को प्रशिक्षण अपराधो से बचने के लिए प्रशिक्षण सेवा प्रदान की जाएगी।

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana

योजना का नामसाइबर क्राईम प्रीवेंशन योजना
योजना का शुभारम्भझारखंड सरकार के द्वारा
स्टेटझारखंड
लाभार्थीझारखंड राज्य के सभी नागरिक
लाभराज्य में हो रहे अपराधों में रोकथाम
उद्देश्यसाइबर क्राइम को रोकना
वर्ष2022
आधिकारिक वेबसाइटwww.jhpolice.gov.in

साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना झारखंड के उद्देश्य

साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना का मुख्य उद्देश्य है राज्य में बढ़ रहे साइबर अपराधों को कम करना एवं राज्य के नागरिकों को सुविधाओं के साथ-साथ पूर्ण रूप से सुरक्षा प्रदान करना। झारखण्ड सरकार की इस योजना के अंतर्गत नागरिकों में जागरुकता बढ़ाई जाएगी। जिससे अपराधों के खिलाफ में नागरिकों एवं पुलिस के द्वारा लड़ाई लड़ी जाएगी। इस योजना के अंतर्गत नागरिकों को अपराधों के खिलाफ जागरूक करने के लिए उन्हें प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न प्रकार के क्राइम से बचने से संबंधित जानकारी प्रदान की जाएगी। जिससे राज्य के लोग जागरूक हो के राज्य में बढ़ रहे अपराधों को कम करने में पुलिस की सहायता कर सके। झारखंड साइबर अपराध रोकथाम योजना के माध्यम से ऑनलाइन साइबर अपराध पंजीकरण, योग्यता गठन , एहतियात गठन और रिसर्च एवं उन्नति श्रेणी को शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है।

5 components of cybercrime prevention for women and children
  • ऑनलाइन साइबर क्राइम रिपोर्टिंग प्लेटफॉर्म
  • फोरेंसिक यूनिट
  • क्षमता निर्माण इकाई
  • अनुसंधान एवं विकास इकाई
  • जागरूकता निर्माण इकाई
S.NO ComponentsDetails
1ऑनलाइन साइबर क्राइम रिपोर्टिंग यूनिट“ऑनलाइन साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल” सीसीटीएनएस परियोजना का एक केंद्रीय नागरिक पोर्टल है। इस पोर्टल का उपयोग करके साइबर अपराध के शिकार हुए नागरिक ऑनलाइन साइबर अपराध की शिकायत कर सकते हैं।
2फोरेंसिक यूनिटसाइबर अपराध से संबंधित साक्ष्य का उचित संग्रह और संरक्षण और आईटी अधिनियम और साक्ष्य अधिनियम के प्रावधानों के अनुरूप इसका विश्लेषण अत्यंत महत्वपूर्ण है।
3क्षमता निर्माण इकाईयह इकाई सभी आवश्यक क्षमताओं जैसे पता लगाने, जांच, फोरेंसिक आदि के लिए केंद्रीय और राज्य पुलिस बलों, अभियोजकों, न्यायिक अधिकारियों और अन्य सभी संबंधित हितधारकों की क्षमता निर्माण का समर्थन करेगी।
4अनुसंधान एवं विकास इकाईसाइबरस्पेस में अश्लील और आपत्तिजनक सामग्री का पता लगाने के लिए प्रभावी उपकरण विकसित करने के लिए निरंतर शोधन की आवश्यकता होती है। इसलिए, राष्ट्रीय महत्व के अनुसंधान और शैक्षणिक संस्थानों के साथ साझेदारी में अनुसंधान और विकास गतिविधियों को शुरू करने की आवश्यकता है।
5जागरूकता निर्माण इकाईइस इकाई के माध्यम से भारत सरकार द्वारा एक अच्छी तरह से परिभाषित नागरिक जागरूकता कार्यक्रम की शुरुआत की गयी है। जिसका उद्देश्य सक्रिय शमन पहल के रूप में साइबर-अपराध क्या करें और क्या न करें प्रदान करना है।

साइबर क्राइम के अंतर्गत शामिल अपराध

झारखण्ड साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन के माध्यम से वर्तमान समय निंम्नलिखित अपराधों की जांच की जाती है साइबर क्राइम में मौजूद सभी अपराधों के विवरण के विवरण को नीचे दर्शाया गया है।

  1. अनधिकृत पहुंच और हैकिंग(Unauthorized access & Hacking)
  2. ट्रोजन अटैक
  3. वायरस और कृमि का हमला (Virus and Worm attack)
  4. सेवा हमलों का इनकार (Denial of Service attacks)
  5. जालसाजी
  6. आईपीआर उल्लंघन
  7. साइबर आतंकवाद
  8. बैंकिंग,क्रेडिट कार्ड संबंधित अपराध
  9. ई-कॉमर्स,निवेश धोखाधड़ी
  10. साइबर स्टैकिंग
  11. चोरी की पहचान
  12. डेटा डिडलिंग
  13. स्रोत कोड चोरी
  14. कंप्यूटर स्रोत दस्तावेजों के साथ छेड़छाड़
  15. सोशल मीडिया का दुरुपयोग जिसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं
  16. स्मार्ट फोन के माध्यम से किए गए जटिल साइबर अपराध
  17. Pornography
  18. गोपनीयता और गोपनीयता का उल्लंघन और कंप्यूटर से संबंधित अन्य अपराध
  19. ई-मेल संबंधी अपराध: (ए. ईमेल स्पूफिंग, बी. ईमेल स्पैमिंग, सी. ईमेल बमबारी, डी. धमकी भरे ईमेल भेजना, ई. मानहानिकारक ईमेल, एफ. ईमेल धोखाधड़ी)
झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के लाभ
  • Cyber Crime Prevention Yojana के माध्यम से व्यक्तियों को विभिन्न प्रकार के साइबर-अपराधों के बारे में और स्वयं को सुरक्षित रखने के लिए प्रौद्योगिकी का सुरक्षित उपयोग करने की जानकारी दी जाएगी।
  • झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत अपराध के विरुद्ध लड़ाई लड़ी जाएगी।
  • जिससे राज्य में अपराधों की संख्या में निरंतर कमी आएगी।
  • इस योजना के माध्यम से झारखंड सरकार महिलाओं और बच्चों को साइबर अपराध से बचाने का प्रयास करेगी।
  • झारखंड साइबर अपराध रोकथाम योजना के माध्यम से ऑनलाइन साइबर अपराध पंजीकरण, जागरूकता निर्माण, क्षमता निर्माण, और अनुसंधान एवं विकास इकाइयों को शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है।

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana की विशेषताएं

  • झारखंड राज्य के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा 17 दिसंबर 2020 को झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना को शुरू किया गया।
  • साइबर क्राइम के बढ़ते अपराधों को कम करने के लिए यह योजना महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।
  • झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बढ़ते साइबर अपराध से निपटने के लिए पुलिस के ‘आधुनिकीकरण’ और अधिकारियों को एक मजबूत तंत्र बनाने पर बल दिया जायेगा।
  • बैठक में सरकार ने यह भी निर्णय लिया कि राज्य भर के विभिन्न स्कूलों के छात्रों को ‘सामुदायिक पुलिसिंग’ के लिए प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।
  • जागरूकता अभियान जैसे एक दिवसीय कार्यशाला, निबंध और भाषण प्रतियोगिता आदि देश भर के स्कूलों, कॉलेज स्तर पर आयोजित किए जाएंगे और ऐसे कार्यक्रमों के एक भाग के रूप में साइबर शिष्टाचार, क्या करें और क्या न करें और पुरस्कार से संबंधित ब्रोशर वितरित किए जाएंगे।
साइबर क्राईम प्रिवेंशन योजना दस्तावेज एवं पात्रता
  • राशन कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • आधार कार्ड
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • बर्थ सर्टिफिकेट
  • मोबाइल नंबर
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए नागरिक राज्य का मूल निवासी नागरिक होना चाहिए।

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें ?

राज्य के जो भी नागरिक झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना चाहते है उन्हें पंजीकरण हेतु अभी कुछ समय का इन्तजार करना होगा। राज्य सरकार के द्वारा इस योजना के आवेदन हेतु नागरिकों के लिए अभी कोई निर्देश जारी नहीं किये गए है। जल्द ही आवेदन करने के लिए झारखंड सरकार के द्वारा योजना के लिए पोर्टल को लॉन्च किया जायेगा। पोर्टल लॉन्च होते ही आपको हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से रजिस्ट्रेशन से संबंधी सूचना से अवगत कराया जायेगा।

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana से संबंधित प्रश्न उत्तर

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना की शुरुआत कब और किसके द्वारा की गयी ?

राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना की शुरुआत 17 दिसम्बर 2020 को की गयी।

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana के माध्यम से बच्चों एवं महिलाओं को क्या फायदे होंगे ?

बच्चो एवं महिलाओं को Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana के अंतर्गत अपराधों से बचने के प्रशिक्षण लेने की सुविधा प्राप्त होगी।

साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना में महिलाओं एवं बच्चों की सुरक्षा के लिए कितने निवारण इकाइयों को शामिल किया गया है ?

महिलाओं एवं बच्चों की सुरक्षा के लिए साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना में 5 निवारण इकाइयों को सम्मिलित किया गया है जिसमें से है। फॉरेंसिक यूनिट ,क्षमता निर्माण इकाई,ऑनलाइन साइबर क्राईम रिर्पोटिंग यूनिट ,जागरूकता निर्माण इकाई
अनुसंधान एवं विकास इकाई।

झारखंड राज्य के नागरिकों को क्या सुविधाएँ योजना के अंतर्गत प्राप्त होगी ?

राज्य में हो रहे अपराधों में योजना के अंतर्गत कमी आएगी साथ ही महिलाओं को और बच्चों को योजना के अंतर्गत एक विशेष प्रकार की सुरक्षा प्राप्त करने में सहायता मिलेगी।

Leave a Comment