भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य | Major Passes of India in Hindi

जब भी दो पर्वत या पहाड़ों के बीच प्राकृतिक रूप से बनने वाले रास्ते को दर्रे (Passes) कहा जाता है। यदि आप किसी प्रतियोगी (Competitive) भर्ती परीक्षा की तैयारी करते हैं तो आपको पता होगा की भूगोल (Geography) विषय से भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य से जुड़े प्रश्न पूछ लिए जाते ... Read more

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

जब भी दो पर्वत या पहाड़ों के बीच प्राकृतिक रूप से बनने वाले रास्ते को दर्रे (Passes) कहा जाता है। यदि आप किसी प्रतियोगी (Competitive) भर्ती परीक्षा की तैयारी करते हैं तो आपको पता होगा की भूगोल (Geography) विषय से भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य से जुड़े प्रश्न पूछ लिए जाते हैं। आज के आर्टिकल में हम आपके भारत के प्रमुख दर्रों के नाम, भौगोलिक स्थिति और उनके राज्यों के बारे में जानकारी लेकर आये हैं। हमारे जो भी पाठक दोस्त अगर किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो उनके लिए यह आर्टिकल (Article) मददगार साबित हो सकता है। पर्वत दर्रों के बारे में और अधिक जानने समझने के लिए हम आपसे कहेंगे की आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य
भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य

दर्रें क्या होते हैं ?

प्रकृति में होने वाली प्राकृतिक घटनाएं (जैसे: ज्वालामुखी (Volcano) का फटना, भूकंप (Earthquake) का आना, Land slide (जमीन का खिसकना)) आदि के फलस्वरूप किन्हीं दो पहाड़ों के बीच बनने वाले रास्तों को हिंदी में दर्रा और अंग्रेजी में (Passes) कहा जाता है। दर्रे के आस-पास के प्राकृतिक नज़ारे बड़े ही मनोरम और मनमोहक होते हैं।

यह भी पढ़े :- भारत के प्रमुख बांध की सूची

जंगल का पर्यायवाची शब्द

जंगल का पर्यायवाची शब्द - jungle ka paryayvachi shabd

भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य के बारे में जानकरी:

दोस्तों आप तो यह जानते हैं भारत के उत्तर में स्थित हिमालय पर्वत एक युवा पर्वत है जो अभी भी अपनी परिस्थितियों में बदलाव कर रहा है। वैज्ञानिकों की मानें तो प्रत्येक दिन हिमालय में कुछ न कुछ परिवर्तन हो रहा है। पहाड़ों में इन्हीं परिवर्तन के कारण अनेकों प्रकार के बदलाव देखने को मिलते हैं। दोस्तों वैसे तो हमारे देश में अनेकों पहाड़ एवं दर्रे हैं। लेकिन हम आपको यहां देश के प्रमुख दर्रों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान कर रहे हैं। इन दर्रों का विवरण इस प्रकार से है।

1. नाथू ला दर्रा (Nathu La Pass – सिक्किम):

nathu la passes sikkim
नाथू ला दर्रा सिक्किम
  • आपको बताते चलें की भारत, चीन और तिब्बती सीमा पर स्थित नाथू ला दर्रा (Nathu La Pass) सिक्किम राज्य के पहाड़ी इलाकों में स्थित है। यह दर्रा चीन के साथ हमारे व्यापारिक रिश्तों को जोड़ता है। चीन से आने वाले सामान की आवाजाही इसी दर्रे पर बने रास्ते से की जाती है।
  • आपकी जानकारी के लिए बता दें की नाथू का मतलब होता है “सुनने वाला” और ला का मतलब होता है “पास या दर्रा” यह दोनों शब्द तिब्बती भाषा से लिए गए हैं।

2. कराकोरम दर्रा (Karakoram Pass – जम्मू और कश्मीर):

कराकोरम दर्रा जम्मू कश्मीर
कराकोरम दर्रा जम्मू कश्मीर
  • बर्फीले और प्राकृतिक खूबसूरत नज़ारों से घिरा कराकोरम दर्रा भारत के जम्मू कश्मीर राज्य और चीन के शिजियांग प्रांत में स्थित है।
  • आपको बता दें की कराकोरम दर्रे की समुद्र तल से ऊंचाई (5,540 मीटर लगभग 18,175 फ़ीट) की ऊंचाई पर स्थित है।
  • यह दर्रा लेह शहर और तारिम द्रोणी के यारकंद क्षेत्र को चीन के साथ व्यापारिक मार्ग को जोड़ता है।

3. पीर पंजाल दर्रा (Pir Panjal Pass – जम्मू और कश्मीर):

The Pir Panjal Pass
पीर पंजाल दर्रा
  • हम आपको बता दें की पीर पंजाल दर्रा जम्मू कश्मीर राज्य के पीर पांजाल पर्वतमाला की चोटियों के बीच स्थित है। मुग़ल काल में यह दर्रा व्यापारिक रास्तों का केंद्र हुआ करता था।
  • पीर पंजाल दर्रे की समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 3,490 मीटर मतलब 11,450 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है।
  • कश्मीर घाटी का यह दर्रा जम्मू राज्य के राजौरी और पूंछ जिले को आपस में जोड़ता है।
4. शिपकी दर्रा (Shipki Pass – हिमाचल प्रदेश):
शिपकी दर्रा हिमाचल प्रदेश
शिपकी दर्रा हिमाचल प्रदेश
  • भौगोलिक स्थिति के अनुसार शिपकी ला दर्रा हिमाचल प्रदेश राज्य के किन्नौर जिले और चीन के कब्ज़े वाले तिब्बत के नगारी प्रांत में स्थित है।
  • शिपकी ला दर्रा की समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 3,930 मीटर (12,894 फ़ीट) है।
  • देश की प्रमुख नदियों में से एक सतलुज नदी तिब्बती क्षेत्र के शिपकी दर्रे से होते हुए भारत में प्रवेश करती है।
  • साल के अधिकतर समय शिपकी ला दर्रे पूरी तरह बर्फ की चादर ओढ़कर ढका रहता है।

5. रोहतांग दर्रा (Rohtang Pass – हिमाचल प्रदेश):

भारत के प्रमुख दर्रों के नाम
रोहतांग पास हिमाचल प्रदेश
  • देश एक प्रमुख दर्रों में से एक रोहतांग दर्रे की भौगोलिक स्थिति की बात करें तो यह दर्रा हिमालय क्षेत्र की पीर पंजाल पर्वतमाला के पूर्वी भाग में स्थित है।
  • हिमाचल के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में से एक मनाली से यह दर्रा 51 किलोमीटर दूर स्थित है।
  • आपकी जानकारी के लिए बता दें की रोहतांग दर्रे की समुद्र तल से लगभग ऊंचाई (3,978 मीटर – 13051 फ़ीट) है।
  • साल के अधिकतर समय में यहां का मौसम सर्दी वाला होता है। हिमाचल प्रदेश राज्य के पर्यटन विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार साल 2008 में लगभग 1 लाख से ज्यादा विदेशी पर्यटक यहां घूमने के लिए आये थे।

6. माणा दर्रा (Maana Pass – उत्तराखंड):

भारत के प्रमुख दर्रों के नाम, Mana_Village_Badrinath_Uttarakhand
माणा दर्रा (गांव) उत्तराखंड
  • माणा गाँव या माना दर्रा को उत्तराखंड राज्य का अंतिम गांव के रूप में जाना जाता है।
  • आपकी जानकारी के लिए बता दें की हिमालय पर्वत की ज़ंस्कार पर्वतमाला में स्थित यह दर्रा (Pass) हिमालय पर्वत के प्रमुख दर्रों में से एक माना जाता है।
  • माणा दर्रे को चिरबितया, चिरबितया-ला और डुंगरी-ला आदि नामों से भी जाना जाता है।
  • इस दर्रे में बसे माणा गांव में आपको भोटिया जनजाति के लोग देखने को मिल जायेंगे जो तिब्बत और नेपाल क्षेत्र से शरणार्थी के रूप में भारत आये थे।
  • माणा दर्रे की समुद्र तल से ऊंचाई 5,545 मीटर (18,192 फ़ीट) है। उत्तराखंड का माणा गाँव मार्ग चीन बॉर्डर से होते हुए भारत को तिब्बत से जोड़ता है।
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने के लिए श्रद्धालुओं को माणा गांव के मुख्य मार्ग से होते हुए जाना पड़ता है। यहाँ पर भारत के परिवहन विभाग के द्वारा बनाई गई सड़क दुनिया की सबसे ऊंची सड़क है।

7. नीति दर्रा (Neeti Pass – उत्तराखंड):

भारत के प्रमुख दर्रों के नाम
नीति दर्रा उत्तराखंड
  • नीति दर्रा को उत्तराखंड के प्रमुख दर्रों में से एक है। यह दर्रा उत्तराखंड राज्य के कुमाऊं क्षेत्र में के चमोली जिले में स्थित है।
  • इस दर्रे में उत्तराखंड का एक छोटा सा गाँव बसा हुआ है जिसे नीति गाँव कहा जाता है। नीति गाँव के नाम पर ही दर्रे का नाम नीति दर्रा पड़ा है।
  • आपको बताते चलें की नीति गाँव धौलीगंगा नदी के किनारे पर बसा हुआ है।
  • नीति दर्रे में भगवान शिव की एक पवित्र गुफा है जिसका नाम तिम्मरसैण महादेव है। भारी संख्या में लोग इस गुफा के दर्शन करने आते हैं।
  • नीति दर्रे की समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 3,600 मीटर (11,800) फ़ीट है। नीति गांव का प्राकृतिक नजारा देखने में बड़ा ही मनोरम और मनमोहक लगता है।

भारत के प्रमुख दर्रों के नाम और उनके राज्य से जुड़े प्रश्न एवं उत्तर (FAQs):

भारत का सबसे छोटा दर्रा कौन सा है ?

पीर पंजाल पर्वतमाला पर स्थित बनिहाल दर्रा देश का सबसे छोटा दर्रा है। जिसकी समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 2,832 मीटर है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
बोमिडीला दर्रा कहाँ स्थित है ?

बोमिडीला दर्रा अरुणाचल प्रदेश राज्य के उत्तर – पश्चिम भाग में स्थित है।

मुंबई – कोलकाता मार्ग से गुजरने वाले दर्रे का नाम क्या है ?

मुम्बई-कोलकाता मार्ग से गुजरने वाले दर्रे का नाम थाल-घाट दर्रा है।

मुंबई – पुणे हाईवे NH48 को जोड़ने वाला दर्रा कौन सा है ?

मुंबई – पुणे हाइवे NH48 को जोड़ने वाला दर्रा भोरघाट दर्रा है।

बारालाचा दर्रा समुद्र तल से कितनी ऊंचाई पर स्थित है ?

हिमाचल प्रदेश का बारालाचा दर्रा समुद्र तल से 4,890 मीटर लगभग 16,043 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है।

यह भी जानें:

NGO क्या है

NGO क्या है कैसे कार्य करता है और अपना एनजीओ कैसे बनाएं ? पूरी जानकारी हिंदी में

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें