राहुल गांधी का जीवन परिचय | परिवार, शिक्षा, संपत्ति, उम्र और राजनैतिक जीवन | Rahul Gandhi Biography In Hindi

राहुल गांधी एक भारतीय राजनेता हैं। वे वर्तमान में केरल की वायनाड सीट से राज्यसभा के सांसद और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के शीर्ष नेताओं में से एक हैं। Rahul Gandhi अकसर विभिन्न कारणों से चर्चाओं में रहते है। इसलिये इस लेख में हम आपको राहुल गांधी की जीवनी के बारे में बताने जा रहे है। ... Read more

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

राहुल गांधी एक भारतीय राजनेता हैं। वे वर्तमान में केरल की वायनाड सीट से राज्यसभा के सांसद और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के शीर्ष नेताओं में से एक हैं। Rahul Gandhi अकसर विभिन्न कारणों से चर्चाओं में रहते है। इसलिये इस लेख में हम आपको राहुल गांधी की जीवनी के बारे में बताने जा रहे है। राहुल गांधी के प्रारंभिक जीवन और उनकी राजनीतिक यात्रा तथा कांग्रेस से उनका सम्बन्ध आदि पूरी जानकारी इस लेख में आपको दी जा रही है। राहुल गांधी का जीवन परिचय (Rahul Gandhi Biography), शिक्षा, परिवार, सम्पत्ति, उम्र आदि की सम्पूर्ण जानकारी के लिये इस लेख को पूरा अवश्य पढें।

चर्चा में क्यों (Rahul Gandhi Latest News)

राहुल गांधी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और महा सचिव रहे हैं। हाल ही में राहुल गांधी चर्चा में बने हुये हैं। उनके चर्चा में आने कारण गुजरात के एक न्यायालय के द्वारा दिया गया फैसला है। जिसमें राहुल गांधी को दो साल की सजा सुनाई गयी है। दरअसल मामला 2019 का है, जब राहुल गांधी लोकसभा चुनाव के दौरान प्रचार कर रहे थे। प्रचार के दौरान 13 अप्रैल 2019 को कोलार, कर्नाटक में एक रैली को सम्बोधित करते हुये अपने भाषण में उन्होंने कहा कि सभी चोरों का नाम मोदी ही क्यों है। उनकी इस टिप्पणी पर काफी विवाद हुआ। गुजरात सरकार में पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी के द्वारा राहुल गांधी के खिलाफ मोदी समाज की ओर से मानहानि का मुकदमा सूरत के न्यायालय में पेश किया गया। 23 मार्च 2023 को फैसला सुनाते हुये न्यायालय ने राहुल गांधी को दोषी ठहराते हुये उन्हें 2 साल कारावास की सजा सुनाई है।

कौन था नाथूराम गोडसे – नाथूराम गोडसे का अंतिम बयान

Rahul Gandhi Biography Key Points

नाम (Name)राहुल गांधी (Rahul Gandhi)
जन्म19 जून 1970 (आयु 52 वर्ष), नई दिल्ली, भारत
पिता का नामराजीव गांधी
माता का नामसोनिया गांधी
धर्म (Religon)हिन्दू
वैवाहिक स्थितिअविवाहित (Unmarried)
नागरिकता (Nationlity)भारतीय
निवासनई दिल्ली, भारत
राजनैतिक पार्टी (Political Party)भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) INC
प्रारंभिक शिक्षा (Primary Education)सेंट कोलंबस स्कूल, नई दिल्ली
द दून स्कूल, देहरादून, उत्तराखण्ड
कॉलेज, उच्च शिक्षा (Higher Studies)सेंट स्टीफन कालेज, दिल्ली
द हावर्ड यूनिवर्सिटी
ट्रिनिटी कालेज, कैंब्रिज से एम फिल
राजनीतिक जीवन (Political Career)2004 से वर्तमान तक लोकसभा सांसद
भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष रहे,
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सचिव और बाद में अध्यक्ष बने।
वर्तमान में केरल की वायनाड सीट से सांसद।
राहुल गांधी का जीवन परिचय | परिवार, शिक्षा, संपत्ति, उम्र और राजनैतिक जीवन | Rahul Gandhi Biography In Hindi
राहुल गांधी का जीवन परिचय

राहुल गांधी का प्रारंभिक जीवन

Rahul Gandhi का जन्म 19 जून 1970 को नई दिल्ली में हुआ था। इनके पिता का नाम राजीव गांधी और माता का नाम सोनिया गांधी है। राहुल एक प्रतिष्ठित राजनैतिक परिवार से सम्बन्ध रखते है। इनके पिता राजीव गांधी पूर्व प्रधानमंत्री रह चुके हैं। गांधी का परिवार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का एक महत्वपूर्ण स्तंभ रहा है। राहुल गांधी भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पण्डित जवाहर लाल नेहरू के परिवार से आते हैं। इनकी दादी श्रीमती इंदिरा गांधी भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री रही हैं। इंदिरा गांधी के बाद उनके पुत्र राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने। इस प्रकार राहुल गांधी, गांधी परिवार की चौथी पीढी के राजनेता है। राहुल दो भाई बहनों में बडे हैं। इनकी बहन प्रियंका गांधी भी राजनीति में सक्रिय हैं। राहुल गांधी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के सेंट कोलंबस स्कूल से प्राप्त की।

इसके बाद उनका दाखिला देहरादून के प्रतिष्ठित द दून स्कूल में कराया गया। राहुल गांधी ने प्रतिष्ठित हावर्ड विश्वविद्यालय (Harward University) के रोलिंस कालेज फ्लोरिडा (Rollins College Florida) से स्नातक की शिक्षा पूरी की। राहुल गांधी ने कैंब्रिज विश्वविद्यालय (Cambridge University) के ट्रिनिटी कालेज (Trinity College) से एम. फिल की डिग्री प्राप्त की है। इस प्रकार राहुल गांधी एक उच्च शिक्षित राजनेता हैं।वर्ष 1983 के सिख दंगों के चलते श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या कर दी गयी। इस दौरान राहुल गांधी को अपनी पढाई घर पर ही करनी पडी। इसके पश्चात प्रधानमंत्री बने राहुल के पिता राजीव गांधी की भी हत्या हो गयी। इसलिये राहुल गांधी को सुरक्षा कारणों से अपना नाम बदलकर अपनी उच्च शिक्षा पूरी करनी पडी।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

प्रारंभिक करियर (Rahul Gandhi Career)

अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद राहुल गांधी ने लंदन के मॉनीटर ग्रुप में 3 साल तक बतौर स्ट्रेटेजिक कंसल्टेंट कार्य किया। इसके बाद राहुल भारत आ गये और मुंबई स्थित एक आउटसोर्सिंग कंपनी बैकअप्स प्राईवेट लिमिटेड में बतौर निर्देशक कार्यभार ग्रहण किया। इसके बाद राहुल का झुकाव राजनीति की ओर बढता गया और वर्ष 2004 में वे पूरी तरह से राजनीति में आ गये। उन्होंने अपनी मां और तत्कालीन कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ राजनीतिक बैठकों में भाग लेना शुरू कर दिया। इसके बाद वे सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी का दौरा करने लगे। 2004 के लोकसभा चुनाव में अमेठी सीट से लडने की घोषणा के साथ सक्रिय राजनीति में पदार्पण किया।

राहुल गांधी का राजनीतिक जीवन (Rahul Gandhi Political Career)

साल 2004 में राहुल गांधी ने अपने राजनीतिक जीवन में प्रवेश किया। उन्होंने इसकी शुरूआत पहले कर दी थी। जब वे अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ वन डे क्रिकेट सिरीज देखने पडोसी देश पाकिस्तान गये। उन्होंने अपनी राजनीतिक पारी की शुरूआत संसदीय क्षेत्र अमेठी से की। यह सीट गांधी-नेहरू परिवार के काफी करीब मानी जाती है। इससे पूर्व उनकी माता सोनिया गांधी इस सीट से चुनाव लडा करती थी। यह राहुल के पिता की भी संसदीय सीट थी। अपनी मृत्यु से पूर्व राजीव गांधी भी अमेठी की संसदीय सीट से ही सांसद थे। अपने पहले चुनाव में राहुल गांधी को अमेठी की जनता ने भरपूर प्यार दिया और राहुल गांधी ये चुनाव करीब एक लाख मतों के अंतर से जीतने में सफल रहे।

इसके बाद वर्ष 2006 में कांग्रेस की वर्किंग कमेटी के द्वारा उन्हें पार्टी में पद लेने का प्रस्ताव दिया गया जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया। इसके अगले साल उन्हें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का राष्ट्रीय महा सचिव घोषित किया गया। इसके साथ ही वे राष्ट्रीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे हैं। साल 2009 के लोकसभा चुनावों में एक बार फिर राहुल गांधी ने चुनाव लडा। इस बार भी वे अमेठी लोकसभा सीट से चुनाव लडे। इस बार उनकी जीत का अंतर पहले के मुकाबले अधिक रहा और वे लगभग 3 लाख 30 हजार वोटों से जीत दर्ज करने में कामयाब रहे। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने उनके नेतृत्व में चुनाव लडा। इन चुनावों में उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से 21 सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की। इसी वर्ष उन्हें लोकसभा की मानव संसाधन विकास समीति का स्थायी सदस्य भी नियुक्त किया गया।

यह भी देखें: तेजस्वी सूर्या का जीवन परिचय

2012 विधानसभा चुनाव

साल 2011 में उन्होंने उत्तर प्रदेश के किसान आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। इस दौरान तत्कालीन उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ एक विरोध प्रदर्शन में उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस के द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। उनकी इस गिरफ्तारी की कांग्रेस ने जमकर आलोचना की। हालांकि कुछ समय तक गिरफ्तार रहने के बाद पुलिस के द्वारा उन्हें रिहा कर दिया गया और उत्तर प्रदेश-दिल्ली की सीमा पर हिदायत के साथ उन्हें छोड दिया गया। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनावों में उन्होंने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के चुनावी अभियान का नेतृत्व किया। इस दौरान उन्होंने पूरे देश में 200 से अधिक रैलियां की और अनेक भाषण दिये।

हालांकि इस चुनाव में कांग्रेस को अपेक्षित सफलता नहीं मिली। कांग्रेस को 28 विधानसभा सीटों से ही संतोष करना पडा। इन चुनावों में समाजवादी पार्टी को बहुमत मिला और समाजवादी पार्टी के नेता और मुलायम सिंह के पुत्र अखिलेश यादव के नेतृत्व में सरकार बनाई गयी।

2014 लोकसभा चुनाव (Genral Election 2014)

इसके अगले साल वर्ष 2013 में राहुल गांधी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का उपाध्यक्ष बनाया गया। इसके अगले साल यानी वर्ष 2014 के आम चुनावों में कांग्रेस पार्टी की बुरी तरह से हार हुयी। भारतीय जनता पार्टी को इन चुनावों में पूर्ण बहुमत हासिल हुआ और नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र में बीजेपी की सरकार का गठन हुआ। भारतीय जनता पार्टी इन चुनावों में सबसे बडी पार्टी बनकर उभरी। बीजेपी को 282 सीटों पर बहुमत मिला। वहीं भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (National Democratic Alliance -NDA) ने कुल 336 सीटों पर जीत दर्ज की। हालांकि राहुल गांधी अपनी अमेठी की सीट को बचाने में कामयाब रहे और लगातार तीसरी बार अमेठी संसदीय क्षेत्र से जीतकर लोकसभा पंहुचे। कांग्रेस की शर्मनाक हार की पूरी जिम्मेदारी लेते हुये राहुल गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।

2019 लोकसभा चुनाव (Genral Election 2019)

इसके बाद वर्ष 2018 के छत्तीसगढ, कर्नाटक और राजस्थान के चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया। पार्टी के इस प्रदर्शन का श्रेय राहुल गांधी को दिया गया। उन्होंने तीनों राज्यों में घूम घूमकर कांग्रेस पार्टी का प्रचार किया और कई रैलियां की। साल 2019 के आम चुनावों में एक बार फिर से कांग्रेस पार्टी की हार हुयी और भारतीय जनता पार्टी के द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र में सरकार का गठन किया गया।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

भारतीय जनता पार्टी ने इन चुनावों में पूर्ण बहुमत हासिल किया और 303 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं भाजपा के गठबंधन, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (National Democratic Alliance -NDA) को कुल 353 सीटों पर जीत मिली। इन चुनावों में राहुल गांधी ने दो लोकसभा सीटों से चुनाव लडा। अमेठी संसदीय क्षेत्र और केरल की वायनाड लोकसभा सीट से राहुल गांधी ने चुनाव लडा।

यह चुनाव राहुल के लिये शर्मनाक रहा क्योंकि वे अपनी अमेठी लोकसभा सीट से बीजेपी नेता स्मृति ईरानी से हार गये। हालांकि वायनाड लोकसभा सीट से राहुल गांधी जीत दर्ज करने में कामयाब रहे और इस तरह से संसद पंहुचे।

राहुल गांधी का राजनीतिक करियर

वर्षचुनावसंसदीय क्षेत्रपरिणाम
200414 वां लोकसभा चुनावअमेठी (उत्तर प्रदेश)राहुल गांधी ने बहुजन समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी चन्द्र प्रकाश मिश्रा को लगभग 3 लाख मतों से हराते हुये जीत दर्ज की।
200915 वां लोकसभा चुनावअमेठी (उत्तर प्रदेश)राहुल गांधी ने बहुजन समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अशनीश शुक्ला को लगभग 3 लाख 30 हजार मतों से हराते हुये जीत दर्ज की।
201416 वां लोकसभा चुनावअमेठी (उत्तर प्रदेश)राहुल गांधी ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी की स्मृति ईरानी को लगभग 1 लाख 8 हजार से अधिक मतों से हराकर जीत दर्ज की
201917 वां लोकसभा चुनावअमेठी (उत्तर प्रदेश)राहुल गांधी यह चुनाव हार गये। उन्हें भारतीय जनता पार्टी की नेता स्मृति ईरानी ने लगभग 55 हजार से अधिक मतों के अंतर से हराया।
201917 वां लोकसभा चुनाववायनाड (केरल)राहुल गांधी यह चुनाव लगभग 4 लाख 30 हजार से अधिक मतों के अन्तर से जीते। उन्होंने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के पी पी मुनीर को हराया।

राहुल गांधी भारत जोडो यात्रा (Bharat Jodo Yatra Rahul Gandhi)

लगातार दो लोकसभा चुनावों में करारी हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस पार्टी को पुर्नजीवित करने का बीडा उठाया। राहुल जनता से सीधा सम्पर्क करना चाहते थे और पार्टी के कैडर को एक बार फिर से मजबूत और बडा करना चाहते थे। इसके लिये कांग्रेस पार्टी ने राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत के सुदूर दक्षिणी हिस्से से उत्तरी हिस्ससे तक एक मार्च निकालने की योजना बनायी। इस मार्च को भारत जोडो यात्रा का नाम दिया गया। राहुल गांधी की भारत जोडो यात्रा की हर तरफ चर्चा हुयी। स्थानीय मीडिया, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में भारत जोडो यात्रा की खूब चर्चा हुयी।

गांधी ने तमिलनाडु के कन्याकुमारी से 7 सितम्बर 2022 को अपनी भारत जोडो यात्रा का शुभारम्भ किया। इस यात्रा का उद्देश्य आम लोगों से सम्पर्क करना और देश की राजनीति में कांग्रेस को एक बार फिर से पुर्नस्थापित करना था। राहुल गांधी ने पैदल ही यह यात्रा पूरी की। 136 दिनों तक चली इस यात्रा में राहुल गांधी पैदल तमिलनाडु के कन्याकुमारी से कश्मीर के लाल चौक पर पंहुचे। 3500 किलोमीटर की इस यात्रा में राहुल को अपार जन समर्थन प्राप्त हुआ। जनता के साथ साथ कई विपक्षी पार्टियों ने भी राहुल की इस यात्रा को अपना समर्थन दिया। इमें डीएमके, आरजेडी, जेडयू, पीडीपी, नेशनल कांफ्रेंस आदि पार्टियां शामिल हैं। जम्मू कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराते हुये राहुल गांधी ने भारत जोडो यात्रा का समापन किया।

राहुल गांधी का जीवन परिचय से सम्बन्धित प्रश्न-FAQ

Rahul Gandhi कौन है?

राहुल गांधी एक भारतीय राजनेता हैं। वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के शीर्ष नेताओं में से एक हैं।

राहुल गांधी कहां से सांसद हैं?

वर्तमान में राहुल गांधी की लोकसभा सदस्यता समाप्त कर दी गयी है। वे केरल के वायनाड संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के सांसद थे।

Rahul Gandhi की पत्नी का नाम क्या है?

राहुल गांधी अभी तक अविवाहित हैं और उनके कोई बच्चे नहीं है।

राहुल गांधी की मां का नाम क्या है

सोनिया गांधी राहुल गांधी की मां हैं। वे रायबरेल संसदीय क्षेत्र से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की सांसद हैं।

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें