राजस्थान इंदिरा रसोई योजना 2023 | Indira Rasoi Yojana | 17 रू. में भर प्लेट खाना।

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना 2023: राजस्थान के माननीय मुख्यमंत्री श्री अशोक गेहलोत जी के द्वारा 20 अगस्त 2020 को इस दृढ़ संकल्प “कोई भी भूखा नहीं सोए” के साथ राजस्थान इंदिरा रसोई योजना की शुरुआत की। योजना के तहत राजस्थान सरकार प्रदेश भर के 213 नगर निकायों में 358 रसोईयों की स्थापना कर योजना की शुरुआत की।

आपको बता दें की अभी फिलहाल वर्तमान में रसोईयों की संख्या 870 हो चुकी है। योजना के तहत सरकार चाहती है की राज्य के गरीब एवं वंचित लोगों को बहुत कम कीमत पर अच्छा एवं पौष्टिक भोजन मिल सके।

आपको बता दें की योजना के अनुसार आपको एक थाली के लिए 17 रूपये चुकाने होंगे। यदि आप भी राजस्थान राज्य के नागरिक हैं तो आप इंदिरा रसोई योजना का लाभ उठाकर बहुत ही कम कीमत पर भोजन कर सकते हैं। दोस्तों आगे आर्टिकल में हमने आपको योजना से संबंधित सभी जानकरी विस्तारपूर्वक दी है आप पढ़ सकते हैं।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना |
Indira Rasoi Yojana | 17 रू. में भर प्लेट खाना।

राजस्थान सरकार के द्वारा राज्य के लोगो की सुविधाओं के लिए इस प्रकार की कई अन्य योजनाएं बनायीं एवं संचालित की जाती है। ताकि राज्य के लोग उसका लाभ उठा सकें। इसी प्रकार से एक अन्य योजना भी है। जिसका नाम पालनहार योजना राजस्थान है। अगर आप भी इस योजना के पात्र है तो जानिए कैसे करें आवेदन

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

Rajasthan इंदिरा रसोई योजना के लाभ (Benefits) एवं विशेषताएं

  • दोस्तों राजस्थान में चलने वाली इंदिरा रसोई योजना के सम्पूर्ण कार्यसंचालन के खर्च का वहन राजस्थान राज्य सरकार के द्वारा किया जाता है।
  • योजना के तहत भोजन करने वाले व्यक्ति लाभर्थी को खाने के लिए 8 रूपये चुकाने होते हैं।
  • आपको यहां यह भी बता दें की जिस किसी व्यक्ति के द्वारा इंदिरा रसोई योजना का संचालन किया जा रहा है उसे राज्य सरकार के द्वारा प्रत्येक थाली पर 17 रूपये की सब्सिडी (अनुदान) दिया जाता है।
  • रसोई में भोजन हेतु सभी के लिए बेहतर बैठने की व्यवस्था आप एक स्थान पर सम्मानपूर्वक बैठकर आसानी से भोजन कर सकते हैं।
  • इंदिरा रसोई योजना के लिए राजस्थान सरकार ने प्रतिवर्ष 100 करोड़ रूपये का बजट निर्धारित किया है।
  • योजना के अनुसार राजस्थान सरकार का लक्ष्य है की राज्य में प्रतिदिन 1.34 लाख गरीब व्यक्तियों को और प्रतिवर्ष 4.87 करोड़ लोगों को भरपेट भोजन कराना।
  • रसोइओं के सुचारु संचालन के लिए राज्य सरकार ने स्थानीय संस्थाओं से कहा है की वह सेवाभाव से हमारे साथ मिलकर काम करें।
  • योजना के तहत मिलने वाले भोजन के मेनू में मुख्य रूप से प्रति थाली 100 ग्राम दाल, 100 ग्राम सब्जी, 250 ग्राम चपाती एवं आचार सम्मिलित है।
  • राज्य सरकार के विकेन्द्रित स्वरूप – जिला स्तरीय समिति को आवश्यकतानुरूप स्थान, मैन्यू व भोजन समय के चयन की स्वतंत्रता है।
  • राजस्थान सरकार योजना के तहत प्रत्येक रसोई की रियल-टाइम ऑनलाइन मोनेटरिंग करती है। इसी तरह एस.एम.एस गेटवे सुविधा के द्वारा योजना के लाभार्थियों से योजना के बारे में फीडबैक लिया जाता है ताकि योजना को और बेहतर बनाया जा सके।
  • राज्य सरकार की राज्य/जिला स्तरीय समिति के द्वारा भोजन का निरीक्षण व गुणवत्ता की जाँच की जाती है।
  • यदि कोई योजना के अनुसार इंदिरा रसोई योजना का संचालन करता है तो उसे राज्य सरकार के द्वारा एकमुश्त 5 लाख रूपये और आधारभूत 3 लाख रूपये की आर्थिक मदद की जाती है।
  • राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोरोना जैसी महामारी के समय रसोई का संचालन आवश्यक है।
  • योजना के नियमानुसार दोपहर का भोजन प्रातः 8:30 बजे से मध्यान्ह 1:00 बजे तक एवं रात्रिकालीन भोजन सांयकाल 5:00 बजे से 8:00 बजे तक उपलब्ध कराया जायेगा।
  • यदि जरूरत होती है तो राज्य सरकार एक्शटेन्शन काउंटर द्वारा भोजन वितरण कर सकती है।

इंदिरा रसोई योजना का स्वरुप:

दोस्तों राजस्थान राज्य सरकार की इंदिरा रसोई योजना के मुख्यतः तीन भागों में बांटा गया हैं जिसके बारे में हमने आपको आगे आर्टिकल में बताया है –

  • प्रशासनिक व्यवस्था: दोस्तों राजस्थान सरकार ने योजना के कार्य संचालन की जिम्मेदारी नगरीय विकास एवं आवासन, स्वायत्त शासन विभाग को दी है। योजना के तहत विभाग के कार्यों का निर्धारण किया जा चूका है जो इस प्रकार से है।
    • राज्य/जिला स्तरीय प्रबन्धन व मोनेटरिंग समिति का गठन
    • स्थानीय संख्याओं को चयन में प्राथमिकता
    • योजना की स्थायी एजेण्डा के माध्यम से नियमित समीक्षा
  • रसोईयों की संख्या: योजना के अनुरूप राज्य में शुरू होने वाली रसोईयों की संख्या के बारे में विस्तृत विवरण हमने आपको नीचे दिया है।
क्षेत्रसंख्यारसोई संख्याविवरण
नगर निगम1087जयपुर 20, कोटा, जोधपुर 16, अजमेर, बीकानेर, जयपुर-10 एवं भरतपुर 5
नगर परिषद्341023 रसोई प्रति नगर परिषद्
नगर पालिका1691691 रसोई प्रति नगर पालिका
योग213358
  • योजना की संख्या: इंदिरा गाँधी रसोई योजना के तहत विभिन्न सरकारी निकायों में भोजन हेतु मिलने वाली थालियों की जानकारी इस प्रकार से है।
    • नगर निगम – 300 थाली दोपहर व 300 थाली रात्रि भोजन
    • नगर परिषद् – 150 थाली दोपहर व 150 थाली रात्रि भोजन
    • नगर पालिका – 150 थाली दोपहर व 150 थाली रात्रि भोजन

इंदिरा रसोई योजना का कार्यान्वयन:

राजस्थान सरकार के संकल्प “कोई भी भूखा नहीं सोए” के तहत शुरू की गयी इंदिरा रसोई योजना का सम्पूर्ण कार्य संचालन राज्य सरकार के नगरीय विकास एवं आवासन, स्वायत्त शासन विभाग के द्वारा किया जायेगा।

विभाग के द्वारा प्रतिदिन मॉनिटरिंग एवं समीक्षा की जाएगी। सरकार का सख्त आदेश है की कोरोना जैसी महामारी के समय इंदिरा रसोई योजना के तहत कामगार, प्रवासी मजदूरों, शहरी गरीबों, जरूरतमंदों को भोजन वितरण एवं केंद्र , राज्य चिकित्सा विभाग के द्वारा सैनिटाइज़र , मास्क आदि प्रदान किये जाएंगे।

योजना के नियमानुसार रसोइओं को प्रतिदिन सैनेटाईजेशन, रसोईयों में कार्यरत कार्मिकों की समय-समय पर स्वास्थ्य जॉच आदि भी करवाई जायेगी।

यह भी देखेंराजस्थान के प्रतीक चिन्ह - Rajasthan Ke Pratik Chinh

राजस्थान के प्रतीक चिन्ह - Rajasthan Ke Pratik Chinh

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में सहयोग कैसे करें ?
  • दोस्तों यदि आप में कोई व्यक्ति/संस्था/कॉर्पोरेट/फर्म राजस्थान इंदिरा रसोई योजना के लिए आर्थिक सहयोग करना चाहता है वह मुख्यमंत्री सहायता कोष अथवा रजिस्टरर्ड जिला स्तरीय इंदिरा रसोई के बैंक खाते में दान देकर कर सकते हैं।
  • इसी तरह यदि कोई औद्योगिक/व्यापारिक संस्थान योजना के लिए सहयोग व मदद करना चाहते हैं तो CSR फंड के द्वारा कर सकते हैं। इसके अलावा कोई भी औद्योगिक/व्यापारिक संस्थान इंदिरा रसोई के सम्पूर्ण संचालन का उत्तरदायित्व ले सकते हैं।
  • सरकार द्वारा संचालित इंदिरा रसोई में आप अपने परिवार के सदस्यों से संबंधित वर्षगाँठ , जन्मदिवस या अन्य किसी समारोह के संबंध में दोपहर / रात्रि का भोजन आयोजित कर सकते हैं।
  • आपकी जानकरी के लिए बता दें की समारोह में आने वाले मेहमानों के लिए भोजन निः शुल्क होगा।
  • दोस्तों यदि कोई इंदिरा रसोई में भोजन हेतु सहयोग करता है तो रसोई के मालिक के द्वारा प्रायोजक का नाम आज का भोजन श्री ………. द्वारा …………………………. कारण से प्रायोजित है। के डिस्प्ले बोर्ड में प्रदर्शित किया जायेगा।
  • प्रायोजक आयोजन हेतु भुगतान राशि इंदिरा रसोई के बैंक खाते में ऑनलाइन जमा कर सकता है।

इंदिरा रसोई योजना के सहायता हेतु सपर्क डिटेल्स:

दोस्तों यदि आपको इंदिरा रसोई योजना के संबंध में कोई शिकायत करनी है या किसी सहायता की आवश्यकता है तो आप नीचे दी गयी सम्पर्क डिटेल्स से कांटेक्ट कर सहायता प्राप्त कर सकते हैं।

सहायता हेतु इंदिरा रसोई योजना का हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर:1800-1806-127
Address (पता):स्वायत्त शासन भवन, जी-3, राजमहल रेजिडेंशियल एरिया, सिविल लाइन्स रेलवे क्रासिंग के पास, जयपुर
टेलीफ़ोन नंबर:0141-2226712/11
0141-226712
ईमेल आईडी:

श्री नरेश कुमार गोयल, स्टेट नोडल ऑफिसर
अशोक कुमार मीणा
indirarasoi.lsg@rajasthan.gov.in



ashokmeena88.doit@rajasthan.gov.in

Indira Rasoi Yojana FAQs

इंदिरा रसोई योजना की ऑफिसियल वेबसाइट क्या है ?

इंदिरा रसोई योजना की ऑफिसियल वेबसाइट indirarasoi.rajasthan.gov.in है।

इंदिरा रसोई योजना का हेल्पलाइन नंबर क्या है ?
व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इंदिरा रसोई योजना का हेल्पलाइन नंबर 1800-1806-127 है जिस पर आप भोजन की गुणवत्ता या योजना से जुड़ी अन्य किसी के संबंध में शिकायत कर सकते हैं।

इंदिरा रसोई योजना में एक थाली की कीमत कितनी है ?

इंदिरा रसोई योजना में एक थाली की कीमत 17 रूपये है।

खाने का मेन्यू क्या होगा?

खाने के मेन्यू में दाल, सब्जी, रोटी एवं अचार होगा। योजना के अनुसार जिला स्तरीय समिति स्थानीय आवश्यकतानुसार भोजन के मेन्यू में बदलाव कर सकती है।

इंदिरा रसोई में कौन भोजन कर सकता है ?

इंदिरा रसोई में कोई भी व्यक्ति बिना किसी भेदभाव के भोजन कर सकता है।

इंदिरा रसोई योजना में भोजन का समय क्या – क्या रहेगा ?

दोपहर के भोजन का समय प्रातः 8.30 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक एवं रात्रि भोजन का समय सायं 5.00 बजे से रात्रि 8.00 बजे तक रहेगा

यह भी देखेंराजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना 2024 : ऑनलाइन आवेदन ऐसे करें

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें