वकील कैसे बने, योग्यता, तैयारी कैसे करे | Advocate Kaise Bane

Photo of author

Reported by Saloni Uniyal

Published on

हर किसी का सपना होता है की मैं अपने जीवन में एक काबिल व्यक्ति बनु। कई लोगो का सपना वकील बनने का होता है परन्तु इसको लेकर उनके मन में कई सवाल आते है की वकील कैसे बने, वकील बनने के लिए योग्यता क्या है तथा इसकी तैयारी कैसे की जाती है?

वकील कैसे बने, योग्यता, तैयारी कैसे करे | Advocate Kaise Bane
Advocate Kaise Bane

हम आपको इन सब प्रश्नो के हलो का निवारण कर जरूर देंगे। जैसे ही हम 12 वीं पास करते है और उसके बाद सोचने लगते है कि आगे कौनसे एग्जाम की तैयारी करें।

आज हम आपको इस आर्टिकल में वकील कैसे बने, योग्यता, तैयारी कैसे करे | Advocate Kaise Bane के बारे में आपके साथ पूरी जानकारी साझा करेंगे।

वकील क्या होता है?

वकील उसे कहते है जो अदालत में मुद्दों को सार्वजनिक रूप से सबके सामने रखकर नियंत्रित करता है एवं सुलझाता है इसे पेशेवर व्यक्ति कहा जाता है। वकील को अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे- अधिवक्ता और लॉयर आदि।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

लॉयर क़ानून (वकालत) की पढ़ाई करता है तथा क़ानूनी रूप से दावं पेंच लड़ कर लोगो को सहायता प्रदान न्याय दिलाता है।

वकील को न्याय लड़ने के लिए ईमानदारी का प्रयोग के साथ-साथ अपनी बुद्धि का प्रयोग भी करना पड़ता है ताकि वह सब लोगो को इंसाफ दिला सके।

न्यायलय में वकील एक अधिकारी होता है जो उसमे पीड़ित व्यक्ति होते है उनका केस लड़ता है और उनको सत्यता दिलाने में मदद करता है।

न्यायलय में लॉयर (वकील) का मुख्य काम जिस व्यक्ति ने कोई भी अपराध नहीं किया उसे सजा से बचाने के लिए निर्दोष साबित करना पड़ता है तथा व्यक्ति ने जुर्म किया हो उसे दोषी साबित कर सजा दिलाई जाती है।

वकील जो भी कार्य करता है वह सब कानून के भीतर ही रह कर करता है किसी भी देश में कानून व्यवस्था को सही से चलाने के लिए लॉयर सहायता करता है।

वकील कितने प्रकार के होते है?

आपको बता दे मुख्य रूप से वकीलों को दो प्रकार से विभाजित किया हुआ है पहला सरकार वकील होता है और दूसरा प्राइवेट वकील होता है परन्तु इन दोनों को छोड़कर वकीलों को अन्य बहुत प्रकार से बांटा हुआ है-

  • सुप्रीम कोर्ट वकील
  • सरकारी वकील
  • वरिष्ठ वकील
  • फॅमिली वकील
  • प्राइवेट वकील
  • निजी वकील
  • जूनियर वकील
  • हाई कोर्ट वकील
  • सीनियर वकील

वकील बनने के लिए क्या योग्यता चाहिए?

वकील बनने के लिए कुछ महत्वपूर्ण योग्यताएं नीचे निम्न प्रकार से बताई हुई है-

  • वकील बनने के लिए आपका भारत का नागरिक होना जरुरी है।
  • आप पूर्ण रूप से ग्रेजुएट होने चाहिए।
  • वकील बनने के लिए आपकी आयु 21 वर्ष से ज्यादा होनी जरुरी है।
  • आपको इंग्लिश और हिंदी का ज्ञान अच्छे से होना चाहिए।
  • आपका 12 वी में 50% अंको से पास होना जरुरी है तब जाकर आप आगे वकील बनने के तैयारी कर सकते है।

सरकारी वकील कैसे बने?

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

चाहे आप सरकारी वकील बनो या प्राइवेट वकील बनो इसके लिए आपको कानून की पूरी पढ़ाई करनी होगी और बहुत मेहनत भी करनी होगी।

जब आप कानून की पढाई पूरी करेंगे उसके बाद आपको स्नातक डिग्री प्रदान की जाएगी इस स्नातक डिग्री को B.A.L.L.B भी कहा जाता है।

जब आपको लॉ की डिग्री प्राप्त हो जाएगी उसके बाद आप लॉयर कहलायेंगे। इसके साथ-साथ आपकी सोच में भी परिवर्तन आएगा क्योंकि आप कानून की लड़ाई लड़ोगे तो आपकी सामान्य व्यक्ति की सोच से सोचने की क्षमता अलग होगी। वकील कैसे बने नीचे निम्न प्रकार से बताया हुआ है-

12 वी पास करके

जब भी आप किसी और पद या पोस्ट के फॉर्म भरते है तो उसमे आपकी 12 वी कक्षा के नम्बर पूछे जाते है सभी फॉर्मो में आपके 12 वी कक्षा में 50% अंक से अधिक नम्बर मांगे जाते है।

वैसे तो आपका किसी भी विषयों से 12 वी पास होना जरुरी है परन्तु यदि आप 12वी पास आर्ट विषय से करते हो तो आपके लिए और भी अच्छा होगा क्योंकि जो कानून की पढ़ाई होती है उसमे आर्ट्स के सब्जेक्ट भी पढायें जाते है।

लॉ कॉलेज में एडमिशन और एंट्रेस एग्जाम

अच्छे अंकों से 12वी पास करने के बाद यदि आप वकील की पढ़ाई कर वकील बनना चाहते है तो इसके लिए आपको एक अच्छे कॉलेज में एडमिशन लेना होगा और CLAT Exam को पास करना होगा ये बहुत कठिन एग्जाम होता है।

यदि आप ये एग्जाम पास कर देते है तो आपको इंडिया के टॉप कॉलेजो में एडमिशन मिल जाता है परन्तु यह एग्जाम कठिन होता है इसको पास करने के लिए आपको खूब मेहनत करनी होगी। CLAT की फुल फॉर्म COMMON LAW ADMISSION TEST है।

जो भी स्टूडेंट्स लॉयर बनने के की तैयारी कर रहे है उनको पहले CLAT Exam पास करने के लिए एंट्रेस एग्जाम देना होगा।

फिर भी अगर आप इस एग्जाम को नहीं देना चाहते है तो आपको अन्य कॉलेजो में भी एडमिशन मिल सकता है वहां से आपको सीधे BA LLB करना होगा।

BA LLB कोर्स कैसे करें?

अगर आपने CLAT एग्जाम क्लियर कर दिया है और आप पास हो गए है तो इसके बाद आपको कानून की पढ़ाई करनी होगी। अब आपको BA LLB कोर्स करना होगा यह कोर्स दो प्रकार का होता है- पहला तीन साल का एवं दूसरा पांच साल का होता है।

3 साल का BA LLB कोर्स

यदि आप 12वी 50% अंको से अधिक अंक लाकर पास करते है और उसके बाद कॉलेज से ग्रेजुएशन पूरी करते है तो फिर आप BA LLB कोर्स कर सकते है यह कोर्स आपका तीन साल का रहेगा। अब आपको 5 साल का BA LLB कोर्स करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

5 साल का BA LLB कोर्स

जब आप 12वी पास करते है और उसके बाद आप CLAT Exam को क्लियर कर पास कर देते हो तो इसके बाद आपको BA LLB का कोर्स करना होगा। यह कोर्स आपका पांच साल में पूरा होगा। अगर आपको एडमिशन किसी अच्छे कॉलेज में मिलता है और आप मन लगाकर मेहनत करते तो तो आपका वकील बनने का सपना पूरा हो जाएगा।

यह भी देखें(Registration) बिहार रोजगार मेला | रोजगार मेला तिथि, स्थान, Rojgar Mela

(Registration) बिहार रोजगार मेला 2023 | रोजगार मेला तिथि, स्थान, Rojgar Mela

लॉ की पढ़ाई के पश्चात इंटर्नशिप कैसे करें?

कई बार ऐसा होता है की पूरी मेहनत करने पर तथा कानून की पढ़ाई पूरी करने के बावजूद भी कई स्टूडेंट्स ऐसे होते है जो लॉयर नहीं बन पाते है क्योंकि आज के ज़माने में किसी भी काम या पढ़ाई को लेकर कॉम्पिटिशन बहुत अधिक हाई हो गया है।

अपने कानून की पढ़ाई कर ली तो इसका मतलब यह नहीं है की आप डायरेक्ट वकील बन जाओगे। न्यायलय में वकालत करने से पहले इंटर्नशिप करनी जरुरी है ये इंटर्नशिप आपकी करीबन 1 से 2 साल तक होनी चाहिए।

जब आप इंटर्नशिप को करते है तो इसमें आपको वकालत के बारे में समझाया जाता है उसके बारे सारी जानकारी बताई जाती है अदालत में वकील कैसे मुकदमा लड़ते है।

या फिर आप ऐसे भी कर सकते है किसी वरिष्ठ वकील के सहायक भी बन सकते है उनके साथ काम करते करते आपको वकालत का काफी ज्ञान प्राप्त हो जाएगा।

साथ-साथ आपको आपके काम के हिसाब से सैलेरी भी दी जाएगी। आपको वकालत का भी ज्ञान हो जाएगा। अर्थात कानून की पढ़ाई पूरी करने से आप इंटर्नशिप कर सकते है या फिर किसी वरिष्ठ लॉयर के सहायक के रूप में कार्य कर सकते है।

स्टेट बार काउंसिल के लिए एनरोल कैसे करें?

स्टेट बार काउंसिल के लिए एनरोल करना जरुरी होता है कानून में वकालत करने में यह बहुत आवश्यक है यह एक मुख्य प्रक्रिया मानी जाती है।

देश में कहीं कोई भी स्टेट बार काउंसिल हो आप वहां जाकर अपना नामांकन करवा सकते है। एडवोकेट एक्ट 1961 के माध्यम से काउंसिल की जाती है।

देश में कई राज्य है और हर राज्य की नामांकन प्रक्रिया हर किसी से विभिन्न होती है। जब आपकी नामांकन प्रक्रिया पूर्ण होकर सफल हो जाती है उसके बाद आपकी परीक्षा होती है उसके लिए आपको तैयारी करनी होती है। इस परीक्षा को आल इंडिया बार एग्जामिनेशन के नाम से बुलाया जाता है।

परीक्षा में अपने कानून वकालत एवं आपकी बुद्धि क्षमता कितनी है के बारे में पूछा जाता है अगर आप इस परीक्षा में अच्छे नम्बरो से पास हो जाते हो तो आपको कानून की तरफ से वकालत का प्रमाण पत्र दिया जाता है। और आप एक लॉयर बन जाते है।

प्राइवेट वकील कैसे बने?

सरकारी वकील और प्राइवेट वकील बनने के लिए आपको कानून की पढ़ाई तो अवश्य पड़नी होगी परन्तु सरकारी वकील से प्राइवेट वकील का बनना इतना मुश्किल नहीं होता है। नीचे निम्न प्रकर से प्राइवेट वकील कैसे बनते है बताया हुआ है-

  • 10वी क्लास पास
  • 12वी क्लास पास
  • लॉ कॉलेज में प्रवेश लेने के बाद आपको एंट्रेंस एग्जाम को पास होगा।
  • उसके बाद आपको पांच या तीन साल का BA LLB कोर्स करना होगा।
  • कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद आपको इंटर्नशिप करनी है।
  • अंत में आपको काउंसिल के लिए स्टेट बार में एनरोल करना होगा।

टॉप लॉ कॉलेज इन इंडिया

टॉप लॉ कॉलेज इन इंडिया नीचे निम्न प्रकार से बताये हुए है-

  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी
  • आर्मी इंस्टिट्यूट ऑफ़ लॉ, मोहाली
  • एमिटी लॉ स्कूल, दिल्ली (नॉएडा)
  • गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (गांधीनगर)
  • न्यू लॉ कॉलेज, भारती विद्यापीठ डीम्ड यूनिवर्सिटी (पुणे)
  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी (बैंगलोर)
  • K.L.E सोसाइटी लॉ कॉलेज (बैंगलोर)
  • स्कूल ऑफ़ लॉ क्राइस्ट यूनिवर्सिटी (SLCU बैंगलोर)

वकील बनने के लिए प्रवेश परीक्षाएं

वकील बनने के लिए प्रवेश परीक्षाएं नीचे निम्न प्रकार से बताएं हुए है-

  • NULO- CUTTACK
  • GNLU- GANDHINAGAR
  • NLSIU- BANGALORE
  • NALASAR- HYDERABAD
  • TN.NLS- TRIUCHIRAPPALLI
  • CNLU- PATANA
  • RGNUI- LUCKNOW
  • DSNLU- VISAKHAPATNAM
  • MNLU- MUMBAI
  • WBNUJS- GANDHINAGAR
  • HNLU- RAIPUR
  • RGNUI- PATIALA
  • NLUJAA- GUWAHATI
  • NLU- JODHPUR

अधिवक्ता (वकील) की सैलरी कितनी होती है?

अधिवक्ता की सैलरी की बात करें तो उसकी सैलरी उनके काम पर निर्भर करती है की वो कैसे वकालत करते है। भारत में 25,000 से लेकर 50,000 रूपए तक की सैलरी सरकारी वकीलों को दी जाती है।

अगर वकील केसो को अच्छी तरह से लड़ता है वह न्यायलय में वकालत ठीक तरीक़े से करता है तो उसकी सैलरी एक लाख तक भी बढ़ाई जा सकती है।

प्राइवेट वकील की सैलरी की बात करें तो उसकी सैलरी भी उसके द्वारा की गयी वकालत पर निर्भर करती है।

जो हाई लेवल के वकील होते है उनकी सैलरी लगभग एक लाख रूपए तक होती है।

प्राइवेट वकील की सैलरी भी 15 हजार से लेकर 30 हजार रूपए तक होती है।

वकील कैसे बने से सम्बंधित प्रश्न/उत्तर

मुख्य प्राथमिक रूप से वकील कितने प्रकार के होते है?

मुख्य प्राथमिक रूप से वकील दो प्रकार के होते है- एक प्राइवेट वकील पर दूसरे सरकारी वकील आदि।

वकील बनने के लिए कौनसा कोर्स करना होगा?

वकील बनने के लिए आपको बैचलर ऑफ़ लेजिस्टेलिव लॉ का कोर्स करना होगा।

वकील का क्या कार्य होता है?

वकील का कार्य न्यायलय में मुद्दों को लड़ना होता है जिसमे जुर्म करने वाले व्यक्ति को सजा दी जाती है तथा जिसमें पीड़ित को इंसाफ दिलाया जाता है।

अधिवक्ता तथा बैरिस्टर में क्या अंतर होता है।

अधिवक्ता तथा बैरिस्टर में कोई अंतर नहीं होता है ये दोनों समान होते है।

यह भी देखेंIRCON Vacancy: इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन भर्ती का नोटिफिकेशन हुआ जारी, जल्द करें आवेदन

IRCON Vacancy: इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन भर्ती का नोटिफिकेशन हुआ जारी, जल्द करें आवेदन

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें