दुनिया को अलव‍िदा कह गए पंकज उधास, 72 की उम्र में ली आख‍िरी सांस

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

पंकज उधास एक प्रतिष्ठित भारतीय ग़ज़ल गायक थे, जिन्होंने हिंदी सिनेमा और भारतीय पॉप संगीत को अपने योगदान से समृद्ध किया। उन्होंने 1980 के दशक की शुरुआत में अपने ग़ज़ल एल्बम “आहट” के रिलीज़ के साथ अपने करियर की शुरुआत की और जल्द ही अपनी आत्मा को छू लेने वाली आवाज़ और संगीत में भावनात्मक गहराई के लिए प्रसिद्ध हो गए। उधास एक संगीतमय परिवार से थे, जिसमें उनके दोनों भाई, मनहर उधास और निर्मल उधास भी गायक थे।

पंकज उधास का जीवन और संगीत करियर वास्तव में प्रेरणादायक है। उनका जन्म एक ज़मींदार चारण परिवार में हुआ था, 17 मई 1951 को जेतपुर, गुजरात, भारत में जन्मे पंकज उधास एक ऐसे घर में पले-बढ़े जहां संगीत एक प्रिय कला थी। छोटी उम्र से ही, पंकज ने गायन में गहरी रुचि दिखाई, जिससे पंकज उधास को अपनी संगीत यात्रा शुरू करने की प्रेरणा मिली। उनके भाई मनहर उधास और निर्मल उधास भी संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाले कलाकार हैं, जिससे पंकज उधास को और भी प्रेरणा मिली।

पंकज उधास ने अपने करियर की शुरुआत राजकोट की संगीत नाट्य अकादमी में तबला सीखकर की और लेकिन बाद में गुलाम कादिर खान साहब और ग्वालियर घराने के गायक नवरंग नागपुरकर के संरक्षण में हिंदुस्तानी मुखर शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। विशेष रूप से ग़ज़ल में, उनकी शैली और उनकी आवाज़ ने उन्हें एक अलग पहचान दिलाई, जिसने उन्हें गजल गायन में एक महत्वपूर्ण आवाज बना दिया।

अपने करियर के दौरान, पंकज उधास ने कई एल्बम जारी किए जो भारत और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत पसंद किए गए। वह शास्त्रीय ग़ज़ल तकनीकों को आधुनिक संवेदनाओं के साथ मिश्रित करने के लिए जाने जाते थे, जिससे यह विधा एक व्यापक दर्शक वर्ग तक पहुँच सकी। उनके संगीत में अक्सर हार्मोनियम, गिटार, पियानो, वायलिन और तबला जैसे विभिन्न वाद्ययंत्र शामिल होते थे, जिससे उनकी संगीत की विविधता का पता चलता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

पंकज उधास को उनके संगीत के योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया, जिसमें 2006 में भारत सरकार द्वारा प्रदान किया गया प्रतिष्ठित पद्म श्री भी शामिल है। वह परोपकार में भी सक्रिय थे, जिसमें स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित विभिन्न कारणों का समर्थन शामिल था।

दुर्भाग्यवश, पेनक्रियाज के कैंसर के कारण, पंकज उधास का निधन 26 फरवरी 2024 को 72 वर्ष की आयु में हो गया, जिससे संगीत जगत में एक बड़ी खाली जगह छोड़ गए, लेकिन उनका संगीत दुनिया भर के कई लोगों के दिलों में आगे भी प्रेरणा और संवेदना जगाता रहेगा।

जन्म17 मई 1951, जेतपुर, सौराष्ट्र, भारत
(वर्तमान में गुजरात)
निधन26 फरवरी 2024 (आयु 72 वर्ष)
शैलियाँग़ज़ल
व्यवसायग़ज़ल गायक
वाद्ययंत्र हार्मोनियम, गिटार, पियानो, वायलिन, तबला
सक्रिय वर्ष1980–2024

प्रसिद्धि

पंकज उधास की प्रसिद्धि की यात्रा 1970 के दशक के अंत और 1980 के दशक की शुरुआत में शुरू हुई। गहरी, भावपूर्ण आवाज़ और पारंपरिक ग़ज़ल गायन के प्रति आधुनिक दृष्टिकोण की विशेषता वाली उनकी अनूठी शैली ने तुरंत ध्यान आकर्षित किया। उन्हें सफलता 1980 में एल्बम “आहट” से मिली, जिसने उन्हें भारतीय संगीत उद्योग में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में स्थापित किया। हालाँकि, यह 1982 में “चांदी जैसा रंग है तेरा” की रिलीज़ थी, जिसने उन्हें विश्वव्यापी प्रसिद्धि दिलाई।।

संगीत में योगदान

पिछले कुछ वर्षों में, पंकज उधास ने कई एल्बम जारी किए हैं, जिनमें से प्रत्येक ने भारत में ग़ज़ल संगीत के विकास में योगदान दिया है। उनका संगीत, अक्सर प्रेम, दिल टूटने और सामाजिक मुद्दों के विषयों से संबंधित होता है, जो व्यापक दर्शकों के बीच गूंजता है। “शगुफ्ता,” “मुकर्रर,” “तरन्नुम,” और “नायाब” जैसे एल्बम समीक्षकों द्वारा प्रशंसित और प्रशंसकों द्वारा पसंद किए गए हैं।

दुनिया को अलव‍िदा कह गए पंकज उधास, 72 की उम्र में ली आख‍िरी सांस

पंकज उधास का प्रभाव ग़ज़ल के दायरे से परे तक फैला हुआ है; उन्होंने बॉलीवुड में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। फिल्मों के लिए उनके पार्श्व गायन के परिणामस्वरूप भारतीय सिनेमा में कुछ सबसे यादगार ट्रैक बने, जिनमें फिल्म “नाम” (1986) का “चिठ्ठी आई है” भी शामिल है। यह गीत, विशेष रूप से, अपने संगीत के माध्यम से गहरी भावनात्मक प्रतिक्रियाएँ उत्पन्न करने की उनकी क्षमता को प्रदर्शित करता है।

यह भी देखेंPPF Vs NPS कौनसा प्लान है बेस्ट, ये हैं रिटायरमेंट के लिए पीपीएफ और एनपीएस के फायदे

PPF Vs NPS कौन सा प्लान है बेस्ट, ये हैं रिटायरमेंट के लिए पीपीएफ और एनपीएस के फायदे

उन्होंने 1972 में फिल्म ‘कामना’ के लिए पहली बार अपनी आवाज दी, और उनकी पहली ग़ज़ल एल्बम ‘आहट’ 1980 में रिलीज़ हुई। ‘नाम’ फिल्म में “चिठ्ठी आई है” गीत ने उन्हें व्यापक प्रसिद्धि दिलाई। उनका योगदान ग़ज़ल गायन में नई ऊँचाइयों को छूने में मदद करता है, और उन्होंने अपने करियर में 40 से अधिक एल्बम रिलीज़ किए। उनका गीत “चिट्ठी आई है” उन्हें फिल्म “नाम” में विशेष पहचान दिलाने में सफल रहा, जिससे उनकी प्रतिभा को व्यापक पहचान मिली। उन्होंने कई फिल्मों और एल्बमों के लिए अपनी आवाज़ दी, जिसने उन्हें विश्वव्यापी प्रसिद्धि दिलाई।

रिलीज का साल गाना मूवी/एलबम सिंगरकम्पोजर गीतकार
1970Munne Ki Amma Yeh To BataTum Haseen Main JawaanPankaj Udhas & Kishore KumarShankar-JaikishanRajinder Krishan
1986Chitthi aayi haiNaamPankaj UdhasLaxmikant-Pyarelal
1988Dil Se Dil Mila, Phir Kaisa Gila, Ho Gaya PyarTamachaPankaj Udhas & Sharon PrabhakarBappi Lahiri
1988Chandi Jaisa Rang HaiEk Hi MaqsadPankaj UdhasPankaj UdhasMumtaz Rashid
1988Gaa Mere Sang Pyar Ka Geet NayaGunahon Ka FaislaPankaj Udhas & Lata MangeshkarBappi Lahiri
1988Aaj Phir TumpeDayavanPankaj Udhas & Anuradha PaudwalLaxmikant-Pyarelal
1988Ek Ek Ho Jaye Phir Ghar Chale JaanaGangaa Jamunaa SaraswatiPankaj Udhas & Kishore KumarAnu MalikIndeevar
1988Tere Dar Ko Chhod ChalePankaj Udhas
1989Sahara Tere Intezaar Ka HaiHum Intezaar KarengePankaj UdhasBappi Lahiri
1989Yaad Aayi, Yaad Aayi, Bhuli Woh Kahani Phir Yaad AayiGola BaroodPankaj Udhas & Mohammed AzizBappi Lahiri
1989Tumne Rakh To Lee Tasveer HamariLal Dupatta Malmal KaPankaj Udhas & Anuradha PaudwalAnand-MilindMajrooh Sultanpuri
1989Kuch Baat Hai Tum Mein JoPankaj Udhas & Anuradha Paudwal
1989“Bhool Bhulaiyya Sa Yeh Jeevan””Dekh Ke Tumko”
“Dil Ki Baatein Hain”
GawaahiPankaj Udhas & Anuradha PaudwalUttam-JagdishSardar Anjum
1990Maahiya Teri KasamGhayalPankaj Udhas & Lata MangeshkarBappi Lahiri
1990Ishq Mein Jaan Gawa DengePaap Ki KamaeePankaj Udhas & Anuradha Paudwal
1990Aur Bhala Main Kya Mangun Rab SeThanedaarPankaj Udhas & Lata MangeshkarBappi Lahiri
1990Mohabbat Inayat Karam Dekhte HainBahaar Aane TakPankaj Udhas & Anuradha Paudwal
1991Jeeye To Jeeye KaiseSaajanPankaj UdhasNadeem ShravanSameer
1991Jaane Jaan Mujhe Aisa Kya HuaVishkanyaPankaj Udhas & Penaz MasaniBappi Lahiri
1992Geet Banke Labon PeAdharmPankaj Udhas & Anuradha PaudwalAnand-MilindSameer
1992Dhadkane Saansein JawaniBetaPankaj UdhasDilip Sen-Sameer SenDilip Tahir
1992Jo Geet Nahi JanmaSangeetPankaj Udhas & Anuradha PaudwalAnand-MilindSantosh Anand
1992Ek Pal Ek DinJigarPankaj Udhas & Sadhana SargamAnand-MilindSameer
1992Apni Mohabbat Kabhi Kam Na HoAaja SanamPankaj UdhasArun PaudwalFaaiz Anwar
1992Kisi Ne Bhi To Na DekhaDil Aashna HaiPankaj UdhasAnand-Milind
1993Ye Kya Kya Dikhati HaiMeherbaanPankaj UdhasDilip Sen-Sameer SenRani Malik
1993Dil Deta Hai Ro Ro DohaiPhir Teri Kahani Yaad AayeePankaj Udhas
1993Rabse Bhi Pehle Honthon Pe Meresaajan TeraIzzat Ki RotiPankaj Udhas & Anuradha PaudwalBappi Lahiri
1993Mat Kar Itna GuroorAadmi Khilona HaiPankaj Udhas & Alka YagnikNadeem-Shravan
1993Aadmi Khilona Hai (male)Pankaj Udhas
1993Tujhko Saanson MeinKasam Teri KasamPankaj Udhas & Anuradha PaudwalNaresh SharmaQatil Shiphai
1993Teri Aankhen Meri ManzilFaaiz Anwar
1993Khuda Kare Mohabbat MeinSanam (film released in 1997)Pankaj UdhasAnand-MilindSameer
1993Aankh Mere Yaar Ki Dukhe (Solo)Ek Hi RaastaPankaj UdhasMahesh KishorNaqsh Lyallpuri
1993Aankh Mere Yaar Ki Dukhe (Duet)Pankaj Udhas & Kavita Krishnamurthy
1993Chhupana Bhi Nahi AataBaazigarPankaj UdhasAnu MalikRani Malik
1993Mohabbaton Kaa Safar Hai (duet)Mohabbaton Kaa SafarPankaj Udhas & Kavita KrishnamurthyKhayyamSalahuddin Pervez
1993Mohabbaton Kaa Safar Hai (solo)Pankaj Udhas
1993Abhi Abhi Yeh Samjha HaiDil Apna Aur Preet ParaeePankaj UdhasUsha KhannaYogesh
1994Dil Jab Se Toot Gaya (Duet)SalaamiPankaj Udhas & Alka YagnikNadeem-ShravanSameer
1994Dil Jab Se Toot Gaya (Solo)Pankaj Udhas
1994Aankhon Ke Kaajal SeMain Tera Aashiq (unreleased film)Pankaj Udhas & Anuradha PaudwalNaresh SharmaDeepak Sneh
1994Main Deewana Hoon JisseYeh DillagiPankaj Udhas & Saif Ali Khan
1994Na Kajare Ki DhaarMohraPankaj Udhas
1994Hothon Pe Tera NaamMain Khiladi Tu AnariPankaj Udhas
1994Main Tumse Pyar KartaGhar Ki IzzatPankaj Udhas & Jaishree ShivramAmar-Utpal
1994Rishta tera mera (male version)Jai VikraantaPankaj Udhas
1995Aansu Judai KeMilanPankaj UdhasAnand-MilindSameer
1996Humne Khamoshi Se Tumhe Dil Mein Basaya HaiMajhdhaarPankaj UdhasNadeem-Shravan
1997Meethi Meethi BaateinKaaliaPankaj Udhas & Jaishree ShivramAnand Raj Anand
1997Zindagi Ko Guzarne Ke LiyeJeevan YudhPankaj Udhas & Alka YagnikNadeem-ShravanSameer
1999“Chandakinta Chanda”SparshaPankaj UdhasHamsalekhaItagi Veeranna
1999“Bareyada Mounada Kavite”Pankaj Udhas, Kavita Krishnamurti, Archana UdupaR. N. Jayagopal
2000Ram KareJungPankaj Udhas & Karsan SagathiaAnu Malik
2000Teri AashiquiGhaathPankaj Udhas & Alka YagnikAnu Malik
2002London Mein IndiaYeh Hai JalwaPankaj Udhas & Sukhwinder SinghAnand Raj AnandDev Kohli
2004Chandi Jaisa Rang (Live)Ghazal E Mohabbat, Vol. 1Pankaj Udhas
2008Ek Toh Sharab KamMaan Gaye Mughal-e-AzamPankaj UdhasAnu Malik
2009Main Dil Ki Dil MeinSanam Teri KasamPankaj Udhas & Kumar SanuNadeem-Shravan
2010Sai Baba Geet SudhaMalik EkPankaj UdhasAnup Jalota
2010Maango Ram TeJapp Mann Mere
Sau Din Safal Ganeya
Pucho Sant Mero
Dhan Dhan Hamare
Das Tere Ki Binti
Tu Sabni Thai
Tujh Bin Awar
ShabadPankaj UdhasVaibhav Saxena & Gunjan JhaGuru Granth Sahib[15]
2011Palchhin[16]Mata Ki BheteinPankaj Udhas & Sanghamitra BharaliMohan Sharma
2011Maiyya Pukaare Re (Duet)
2011Aarti
2016Raat Bhar Tanha RahaDil Toh Deewana HaiPankaj UdhasAnand Raj Anand

सामाजिक सेवा

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

पंकज उधास न केवल अपने संगीत के लिए बल्कि अपने परोपकारी प्रयासों के लिए भी जाने जाते हैं। वह वंचित बच्चों के लिए शिक्षा और कैंसर देखभाल सहित विभिन्न कारणों का समर्थन करने में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं। समाज को वापस लौटाने की उनकी प्रतिबद्धता ने उन्हें उनकी संगीत उपलब्धियों से परे सम्मान और प्रशंसा अर्जित की है।

पुरस्कार

पंकज उधास को उनके योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया, जिसमें 2006 में पद्मश्री भी शामिल है। उनकी संगीत यात्रा न केवल उनकी असाधारण प्रतिभा की गवाह है, बल्कि यह भारतीय संगीत उद्योग में गजल गायन की विरासत को भी संजोए हुए है। उनकी आवाज़ ने गजल गायन को एक नई ऊँचाई पर पहुँचाया है, और उनका काम आने वाली पीढ़ियों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत बना रहेगा।

वर्षपुरस्कार का नाम
2006पद्मश्री
2006“कलाकार” पुरस्कार
2004विशेष सम्मान
2003एमटीवी इम्मीज पुरस्कार
2003विशेष उपलब्धि पुरस्कार
2003दादाभाई नौरोजी मिलेनियम पुरस्कार
2002सहयोग फाउंडेशन पुरस्कार
2002इंडो-अमेरिकन चैंबर ऑफ कॉमर्स सम्मान
2001व्यावसायिक पहचान पुरस्कार
1999भारतीय विद्या भवन, यूएसए पुरस्कार
1998इंडियन आर्ट्स अवार्ड्स गाला
1998आउटस्टैंडिंग आर्टिस्टिक अचीवमेंट अवार्ड
1996इंदिरा गांधी प्रियदर्शनी अवार्ड
1994ल्यूबोक टेक्सास, यूएसए की मानद नागरिकता
1994रेडियो लोटस अवार्ड
1993जायंट्स इंटरनेशनल अवार्ड
1990उत्कृष्ट युवा व्यक्तियों का पुरस्कार
1985के एल सहगल पुरस्कार

व्यक्तिगत जीवन

पंकज उधास एक संतुलित जीवन जीते हैं, जहाँ परिवार एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उन्होंने फरीदा उधास से शादी की है और उनकी दो बेटियां नायाब और रेवा हैं। उनका परिवार उनके पूरे करियर में निरंतर समर्थन और प्रेरणा का स्रोत रहा है।

विरासत और प्रभाव

पंकज उधास की विरासत परंपरा के भीतर नवीनता की विरासत है। शास्त्रीय ग़ज़ल शैली को समकालीन संगीत तत्वों के साथ मिश्रित करके, उन्होंने एक अनूठी ध्वनि बनाई है जिसने अनगिनत कलाकारों को प्रभावित किया है। दर्शकों के साथ गहरे भावनात्मक स्तर पर जुड़ने की उनकी क्षमता ने उनके संगीत को कालजयी बना दिया है।

गुजरात के एक युवा लड़के से वैश्विक मंच पर ग़ज़ल के उस्ताद तक पंकज उधास की यात्रा उनकी प्रतिभा, कड़ी मेहनत और समर्पण का प्रमाण है। उनका संगीत सीमाओं से परे जाकर दुनिया भर के लोगों के दिलों को छूता है। एक कलाकार, परोपकारी और पारिवारिक व्यक्ति के रूप में, पंकज उधास एक अच्छे जीवन का सार प्रस्तुत करते हैं, जो संगीत और समाज में महत्वपूर्ण योगदान से चिह्नित है। उनकी विरासत सिर्फ उनके गाए गीतों में नहीं है बल्कि उन जिंदगियों में है जिन्हें उन्होंने अपनी कला और अपने कार्यों से छुआ है।

पंकज उधास के जीवन, योगदान और उनके संगीत की गहराई की व्यापक समझ के लिए, किसी को उनके बारे में एल्बम, लाइव प्रदर्शन, साक्षात्कार और लेखन में गहराई से जाना होगा। उनकी कहानी कलात्मक जुनून, सांस्कृतिक योगदान और व्यक्तिगत अखंडता की एक समृद्ध कहानी है, जो महत्वाकांक्षी संगीतकारों और दुनिया में बदलाव लाने की चाह रखने वालों दोनों को प्रेरणा प्रदान करती है।

यह भी देखेंसबसे पहले दर्शन किस धाम के करने चाहिए? चार धाम यात्रा के बारे में जान लें क्या है यात्रा का सही क्रम

सबसे पहले दर्शन किस धाम के करने चाहिए? चार धाम यात्रा 2024 के बारे में जान लें क्या है यात्रा का सही क्रम

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें