सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम vs बैंक एफडी दोनों में 9.50% का इंटरेस्ट, फिर क्या है अंतर देखें

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS) तथा सीनियर सिटीजन फिक्स्ड डिपॉजिट में 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति निवेश कर सकते हैं। 60 साल से अधिक आयु के नागरिक Senior Citizen Saving Scheme में एक साथ धनराशि को इन्वेस्ट करके बेहतर रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

Photo of author

Reported by Saloni Uniyal

Published on

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम vs बैंक एफडी दोनों में 9.50% का इंटरेस्ट, फिर क्या है अंतर देखें

Senior Citizen Saving Scheme Vs Bank FD: क्या आप अपने भविष्य के बचत करना चाहते हैं? यदि हाँ तो हम आपके लिए आज एक बचत स्कीम लेकर आ गए हैं जिनमें निवेश करके आप भविष्य में अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। इस स्कीम का नाम सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम है जो सरकार द्वारा जारी की गई है। बुजुर्ग नागरिकों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर इस स्कीम को ऑफर किया गया है। जबकि जो बैंक एफडी होती है वह सभी पब्लिक, प्राइवेट तथा स्मॉल सेविंग बैंक ऑफर करते हैं। तो चलिए जानते हैं जानते हैं सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम तथा बैंक एफडी में क्या अंतर होता है।

Senior Citizen Saving Scheme and Bank FD

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS) तथा सीनियर सिटीजन फिक्स्ड डिपॉजिट में 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति निवेश कर सकते हैं। 60 साल से अधिक आयु के नागरिक Senior Citizen Saving Scheme में एक साथ धनराशि को इन्वेस्ट करके बेहतर रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। जिस तरह एफडी स्कीम में किया जाता है। जानकारी के लिए आपको बता दें एफडी की मुकाबले में सीनियर सिटीजन में अधिक फायदा होता है।

सीनियर सिटीजन सेविंग के लाभ

वरिष्ठ नागरिक बचत स्कीम जिसे ही Senior Citizen Saving Scheme कहा जाता है भारत सरकार द्वारा वरिष्ठ नागरिकों के लिए शुरू की गई एक बचत योजना है। यह योजना बैंकों एवं डाकघरों में उपलब्ध हैं जिससे आप कहीं भी निवेश कर सकते हैं। इसमें आपको किसी भी प्रकार का खतरा नहीं है क्योंकि योजना का संचालन सरकार द्वारा किया जा रहा है। योजना के तहत इन्वेस्टरों को टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक की टैक्स छूट भी प्रदान की जाती है। स्किम की मैच्योरिटी अवधि 5 वर्ष की निर्धारित की गई है। तथा आप इसे तीन वर्ष तक भी बढ़ा सकते हैं। SCSS अकाउंट खोलने के लिए आप देश में किसी भी बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस जा सकते हैं इसकी आवेदन प्रक्रिया बहुत ही आसान है। आप स्कीम में 1,000 रुपए राशि से निवेश कर सकते हैं। इसके पश्चात यदि आप राशि को एक हजार के मल्टीपल में भी बढ़ा सकते हैं। एक फाइनेंशियल वर्ष के अंत में 30 लाख रुपए जमा कर पाएंगे।

सीनियर सिटीजन बैंक एफडी

वरिष्ठ नागरिकों को सामान्य एफडी की तुलना में विशिष्ट ब्याज प्रदान किया जाता है। साधारण तौर पर यदि बात करें तो बैंक सीनियर नागरिकों को 0.50 प्रतिशत अतिरिक्त ब्याज देता है। ब्याज का जितना भी पैसा होता है वह आप प्रत्येक माह, तिमाही, छमाही अथवा वार्षिक लें सकते हैं। इसका समय पांच वर्ष का होता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS) और बैंक एफडी में 9.50% ब्याज दर पर तुलना

समानता –

  • ब्याज दर: दोनों ही स्कीम में 9.50% ब्याज दर शामिल है।
  • कर लाभ: दोनों स्कीमों में ब्याज आय पर कर लगाया जाता है।

अंतर:

  • Senior Citizen Saving Scheme पर वर्ष में 8.2% ब्याज दिया जाता है। यह जो स्कीम है वह 80C के तहत कवर की गई है। यदि आप पांच साल से कम समय के लिए FD में निवेश करते हैं तो आपको किसी भी प्रकार का टैक्स लाभ नहीं दिया जाता है।
  • SCSS में आप अधिक समय के लिए इन्वेस्ट कर सकते हैं जबकि एफडी में ऐसी कोई भी सीमा नहीं बनाई गई है। इसके अतिरिक्त आपको बता दें एफडी कई ऑप्शनों के साथ आती है।
  • एक बात ध्यान रखें कि आपके फाइनेंशियल टारगेट तथा उसके पास मौजूद पैसे के आधार पर आप दोनों विकल्प में से एक चुन सकते हैं।

FD बेहतर है अथवा SCSS?

इसका उत्तर आपकी आवश्यकता पर निर्भर करता है। यदि आप केवल कम अवधि तक लॉक इन पीरियड चाहते हैं तो एफडी को चुन सकते हैं और यदि अधिक समय के लिए निवेश करके भविष्य में तगड़ा रिटर्न प्राप्त करना चाहते हैं तो आप सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम के ऑप्शन को चुन सकते हैं।

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें