बफर स्टॉक क्या है? सरकार बफर स्टॉक क्यों बनाती है? (Buffer stock in Hindi)

देश में जब भी सूखा या खाद्य संबंधी कोई समस्या उत्पन्न होती है तो उस वक्त नागरिकों को किसी प्रकार की असुविधा न हो इस बात का ख्याल रखते हुए सरकार ने Buffer stock की व्यवस्था की है। कभी भी देश में संकट आने की परिस्थिति में इसी बफर स्टॉक का इस्तेमाल किया जाता है। ... Read more

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

देश में जब भी सूखा या खाद्य संबंधी कोई समस्या उत्पन्न होती है तो उस वक्त नागरिकों को किसी प्रकार की असुविधा न हो इस बात का ख्याल रखते हुए सरकार ने Buffer stock की व्यवस्था की है। कभी भी देश में संकट आने की परिस्थिति में इसी बफर स्टॉक का इस्तेमाल किया जाता है। जिससे नागरिकों को खाद्य सामग्री का नियमित वितरण किया जा सके। और उन्हें इसकी कमी न हो। आज इस लेख में हम Buffer stock / बफर स्टॉक क्या है? सरकार बफर स्टॉक क्यों बनाती है? आदि से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएंगे। यदि आप भी इस बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें।

बफर स्टॉक क्या है? सरकार बफर स्टॉक क्यों बनाती है? (Buffer stock in Hindi)
बफर स्टॉक क्या है

यह भी पढे :- खाद्य श्रृंखला किसे कहते है? उत्पादक व उपभोक्ता | Food Chain in Hindi

बफर स्टॉक क्या है?

भारत सरकार के अंतर्गत आने वाली Food Corporation Of India (भारतीय खाद्य निगम) देश में सभा राज्यों में खाद्य आपूर्ति हेतु गठित की गयी है। भारतीय खाद्य निगम फसलों के पकने पर की जाने वाली बिक्री में किसानों से अनाज की खरीद करती है। जिसका बाद में देश के सभी हिस्सों में आपूर्ति की जाती है।

बता दें कि जब भी अच्छी फसल होती है, सरकार देश के किसानों से उन फसलों की खरीद करके उसका स्टॉक तैयार करती है या उसे स्टोर करती है। जिसे समय आने पर या किसी खाद्य संकट काल के दौरान इस स्टॉक को जारी करती है। यानी की फसल तैयार हो जाने के बाद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर इसकी खरीद और इसका भण्डारण करना ही बफर स्टॉक कहलाता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

सरकार द्वारा रखे गए खाद्यान्न का स्टॉक / स्टोर ऐसे वक्त पर जारी किया जाता है जब देश में किसी अन्न या खाद्य वस्तु की कमी हो जाती है। कई बार होता है कि किसी वर्ष अनाज या फसल खराब हो जाती है। जिससे न केवल बाजार में उसकी कमी हो जाती है बल्कि इससे उस के दाम भी बहुत बढ़ जाते हैं। ऐसे में उस वस्तु के दाम को नियंत्रित करने के लिए सरकार द्वारा स्टोर किया गया बफर स्टॉक जारी कर दिया जाता है। जो कि बढ़ते हुए दाम को काफी हद तक नियंत्रित कर सके।

सरकार बफर स्टॉक क्यों बनाती है?

बफर स्टॉक एक व्यवस्था है जिसे देशहित में शुरू किया गया है, खासकर हमारे देश के किसानों के लिए। कुल मिलाकर आप इसे ऐसे समझ सकते हैं कि Buffer stock एक ऐसी व्यवस्था या योजना है जिस में अच्छी फसल होने पर उसका भंडारण किया जाता है जिस से फसलों का खरीद मूल्य निर्धारित न्यूनतम सीमा से कम न हो जाए।

ईडब्ल्यूएस प्रमाणपत्र कैसे बनायें - EWS certificate kaise banaye

EWS Certificate: EWS प्रमाण पत्र आवेदन, EWS Certificate form pdf

इसे तब जारी किया जाता है जब फसल खराब होने या अच्छी न होने की स्थिति आती है ताकि बाजार में फसलों का मूल्य में अधिक वृद्धि होने की स्थिति न आ जाए या महंगाई न आ जाए। आप की जानकारी के लिए बता दें कि बफर स्टॉक को केंद्रीय पूल भी कहते हैं।

Buffer stock से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

बफर स्टॉक को बेहतर समझने के लिए आप इस से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों को समझ सकते हैं –

  • देश में बफर सिस्टम में किसानों को सबसे अधिक लाभ होगा। क्यूंकि सरकार द्वारा उनके अच्छी फसल को निर्धारित न्यूनतम मूल्य पर खरीदा जाएगा। जिससे उन्हें किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा।
  • जब भी देश में किसी खाद्य जैसे की – गेंहू, चावल व अन्य ऐसी फसलों की कमी होने की स्थिति में बफर स्टॉक को जारी किया जाता है।
  • देश में बढ़ती कीमतों पर नियंत्रण पाने के उद्देश्य से ही केंद्र सरकार बफर स्टॉक जारी करती है। खासकर जब फसल अच्छी नहीं होती तब मूल्यों के बढ़ने की अधिक संभावना होती है। ऐसे में Buffer stock जारी करने से संबंधित फसल या खाद्यान की कीमत नहीं बढ़ती।
  • बफर स्टॉक का प्रयोग लक्षित सार्वजानिक वितान प्रणाली केअंतर्गत किया जाता है। साथ ही किसी अनु आपात स्थिति में भी इसका प्रयोग होता है।
  • बफर स्टॉक को ही केंद्रीय पूल भी कहते हैं।
  • भारत सरकार द्वारा केंद्रीय पूल या Buffer stock तैयार करने का कार्य भारतीय खाद्य निगम का होता है। इस की स्थापना वर्ष 1965 में की गयी थी।
  • भारतीय खड़े निगम की स्थापना के पीछे उद्देश्य ये था की देश में खाद्यान्नों का न्यायपूर्ण वितरण हो सके और साथ ही उनके मूल्यों में स्थायित्व लाया जा सके।
  • सरकार द्वारा इसी निगम के माध्यम से किसानों से अच्छी फसल होने पर फसलों की खरीद की जाती है और Buffer stock तैयार किया जाता है।
  • इसी खरीद की गयी फसलों को सार्वजानिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत उचित मूल्य की दुकानों पर बेचने हेतु उपलब्ध करा दिया जाता है।

Buffer stock से संबंधित प्रश्न उत्तर

Buffer stock का दूसरा नाम क्या है ?

Buffer stock का दूसरा नाम केंद्रीय पूल है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

भारत में बफर स्टॉक कौन बनाता है?

बफर स्टॉक भारत सरकार के अंतर्गत भारतीय खाद्य निगम (एफ.सी.आई.) के माध्यम से बनाया जाता है।

Buffer stock का मुख्य उद्देश्य क्या है?

Buffer stock का उद्देश्य देश में खाद्यान्नों का न्यायपूर्ण वितरण और साथ ही उनके मूल्यों में स्थायित्व लाना था।

Buffer stock / बफर स्टॉक का रखरखाव कौन करता है?

इसकी जिम्मेदारी एफसीआई (भारतीय खाद्य निगम) की होती है।

निर्गत कीमत का क्या मतलब होता है ?

Buffer Stock के कुछ हिस्से को गरीब नागरिकों को कम कीमत पर खाद्यान्न उपलब्ध करा दिया जाता है। इस कीमत को निर्गत कीमत कहते हैं।

आज इस लेख में आप ने आप को Buffer stock / बफर स्टॉक से संबंधित जानकारी प्रदान की गयी गयी है। उम्मीद है आप को ये जानकारी उपयोगी लगी होगी। यदि आप ऐसे ही अन्य लेखों को पढ़ना चाहते हैं तो हमारी वेबसाइट Hindi NVSHQ से जुड़ सकते हैं।

Comptroller and Auditor General

भारत के नियंत्रक महालेखा परीक्षक सीएजी | Comptroller and Auditor General or CAG information in hindi

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें