पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन पत्र या एप्लीकेशन कैसे लिखें

आज इस लेख में हम आपको पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन पत्र या एप्लीकेशन कैसे लिखें के बारे में बताने जा रहें है। आपको बता दे पुलिस अधिकारी को पत्र लिखना एक प्रकार का औपचारिक पत्र होता है, इस पत्र को आधिकारिक उद्देश्य के लिए एक विशेष प्रारूप में तथा भाषा का उपयोग ... Read more

Photo of author

Reported by Saloni Uniyal

Published on

आज इस लेख में हम आपको पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन पत्र या एप्लीकेशन कैसे लिखें के बारे में बताने जा रहें है। आपको बता दे पुलिस अधिकारी को पत्र लिखना एक प्रकार का औपचारिक पत्र होता है, इस पत्र को आधिकारिक उद्देश्य के लिए एक विशेष प्रारूप में तथा भाषा का उपयोग करके लिखते हैं। आप किसी भी समस्या एवं कारण के लिए थाना प्रभारी को एप्लीकेशन लिख सकते हैं जैसे- लड़ाई झगड़े के विषय में, मोबाइल चोरी होना या फिर आप किसी की शिकायत करना चाहते हैं आदि।

सरल भाषा में कहें तो अपराध के रोकथाम के लिए थाना अधिकारी को पत्र लिखा जाता है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पुलिस इंस्पेक्टर को पत्र कैसे लिखे (Application for Police Station in Hindi) से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी बताने जा रहें हैं, अतः जो भी नागरिक अपनी किसी भी समस्या के कारण पुलिस इंस्पेक्टर को एप्लीकेशन लिखने वाले हैं या लिखने की सोच रहें हैं वे इस आर्टिकल के लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें। आप आसानी से आवेदन पत्र लिख सकते हैं।

पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन पत्र या एप्लीकेशन कैसे लिखें
Application for police station in hindi

पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत पत्र

किसी विशिष्ट घटना के बारे में जैसे- शिकायत दर्ज करना, किसी लड़ाई-झगड़े, किसी मारपीट, किसी प्रकार की समस्या या किसी विवाद की रिपोर्ट करना है जिससे आपको परेशानी झेलनी पड़ रही है आदि उद्देश्य के लिए पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत पत्र लिखा जाता है। इसके अतिरिक्त यदि किसी व्यक्ति को कोई धमकी, चोरी, हिंसा अथवा किसी दंडात्मक अपराध के शिकायत के लिए पुलिस को शिकायत पत्र लिख सकते हैं। पुलिस शिकायत पत्र को लिखकर आप कई इन बताई हुई समस्या को निवारण कर सकते हैं जिससे समाज में इन घटनाओं को होने से रोका जाए जिसके लिए अपराधी को कठोर दंड दिया जाए। समाज में अपराध कम होंगे और जनता सुरक्षित रहेगी।

Also Read – टीसी के लिए आवेदन पत्र कैसे लिखे

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

थाना प्रभारी कौन होता है?

कई लोगों को थाना प्रभारी क्या होता है समझ नहीं आता है क्योंकि इसे अन्य नामों से भी बुलाया जाता है वैसे थाना प्रभारी को पुलिस स्टेशन में सीनियर पुलिस कहते हैं तथा अंग्रेजी में Police In Charge कहा जाता है। प्रत्येक पुलिस स्टेशन में पुलिस इन्चार्ज होते हैं जिनका कार्य अपने कस्बों, मोहल्ले, शहर अथवा गांव में अपराध होने से रोकना है। तथा नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करना है। एवं अपराधी को सजा देना इनका कार्य होता है।

पुलिस को पत्र लिखने का महत्व

  • कानून व्यवस्था को जागरूक करने में।
  • किसी भी समस्या या विषय में थाना प्रभारी तक पहुंचने में सहायता।
  • नागरिक अपनी शिकायतों का समाधान कर पाती है।
  • जनता द्वारा किसी मुद्दे पर आवाज उठाने में सहायता मिलती है।

Also Read – बैंक स्टेटमेंट के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखें

थाना प्रभारी को एप्लीकेशन लिखते समय ध्यान रखे ये बातें

यहाँ पर हम आपको थाना प्रभारी को एप्लीकेशन लिखते समय ध्यान रखने योग्य कुछ जानकारी देने जा रहें हैं अतः आप इस जानकारी को ध्यान से पढ़ें।

  • एप्लीकेशन में अपने विषय को सही और स्पष्ट लिखें।
  • आवेदन पत्र में थाना प्रभारी को सही तरीके से संबोधन करें।
  • आपको पत्र में अपना नाम एवं पता सही ढंग से लिखना है।
  • एप्लीकेशन में आपको केवल अपने उद्देश्य को लिखना है अन्य फालतू बातें ना लिखे।
  • अपने समस्या की पूर्ण जानकारी दे और समस्या का विवरण दें, आप किसी बात को बढ़ा चढ़ाकर या कोई झूठी बात ना बोले यह बाद में आपके लिए समस्या का कारण बन सकता है।
  • प्रेषक को अपना एड्रेस को स्पष्ट रूप से लिखना है।
  • प्रिय अथवा मेरे प्रिय शब्द जैसे अनौपचारिक अभिवादन का इस्तेमाल ना करें।
  • जिस पत्र को आप लिख रहें है उसे घटना, समस्या एवं मुद्दे पर ही जानकारी होनी चाहिए।
  • जब आप लास्ट पैराग्राफ लिखते हैं तो इसमें आपको कार्रवाई के विषय में जानकारी देनी होती है।
  • आवेदन पत्र के लास्ट में आपको दोबारा से अपना नाम, अपना पता एवं दिनांक को जरूर लिखना है।

Also Read – स्कूल से छुट्टी के लिए आवेदन पत्र ऐसे लिखें

पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन

आवेदन पत्र- 1

विटामिन के प्रमुख कार्य, प्रभाव, स्रोत एवं कमी से होने वाले रोगो

विटामिन के प्रमुख कार्य, प्रभाव, स्रोत एवं कमी से होने वाले रोगों की सूची | Vitamin Deficiency Diseases

सेवा में,
श्रीमान थाना प्रभारी महोदय,
पुलिस स्टेशन, (अपने पुलिस स्टेशन का नाम लिखे)
विषय :- लड़ाई – झगड़ा के सम्बन्ध में,
महाशय,

सविनय निवेदन यह है कि अमन कुमार, जौनपुर जिले का रहने वाला हूँ। मैं एक छोटा किसान हूँ। महाशय मैं, मेरी पत्नी और तीन बच्चों के साथ रहता हूँ। यह घटना 01.02.2020 दिन के 1 बजे की है। मेरा सगा भाई मनोज कुमार शराब के नशे में मेरे घर आया और मेरे बच्चों को भी शराब पीने के लिए जबरदस्ती करने लगा जब उन्होंने पीने से मना किया तो उनके साथ मनोज मार-पीट करने लगा। मेरी पत्नी ने जब इसका विरोध किया तो उसके साथ भी गाली-गलोज करके मार-पीट पर उतर आया।

महाशय इससे पहले भी कई बार इसने हमारे साथ झगड़ा किया है। जब भी मैं घर से कहीं बाहर होता हूँ तो यह मेरे घरवालों को गलियां देता है परन्तु इस बार इसने झगड़े के साथ मार-पीट भी की है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

अतः आपसे नम्र निवेदन है की इस घटना के सन्दर्भ में करवाई करके मेरे भाई मनोज कुमार पर कड़े और ठोस कदम उठाये जिससे मुझे और मेरे परिवार को कोई भी परेशानी न हो और हम शांति से रह सके। आपका बहुत आभारी होगा धन्यवाद।

दिनांक…./……/….
आपका विश्वासी
नाम : अमन कुमार
मोबाइल नंबर : 1234567897
हस्ताक्षर :……………

आवेदन पत्र- 2

सेवा में,
श्रीमान थाना प्रभारी महोदय,
पुलिस स्टेशन, (अपने पुलिस स्टेशन का नाम लिखे)
विषय : थाना प्रभारी को शिकायत के लिए आवेदन पत्र

सविनय निवेदन है कि मैं रमेश सिंह, अल्मोड़ा जिले से रहने वाला हूँ। मैं और मेरे बड़े भाई (अपने भाई का नाम) के बीच जमीन से जुड़ा विवाद उत्पन्न हो गया है। हालाँकि हमारे बीच जमीन का बंटवारा भी सही तरीके से हुआ है इसके बाद भी मेरे बड़े भाई द्वारा मेरे ऊपर हेरा फेरी का आरोप लगा दिया गया और मेरे ऊपर जबरदस्ती दबाव बनाया जा रहा है।

बीते हुए दो दिन पहले यह विवाद इतना बड़ा हो गया की झगड़े के साथ मारपीट तक उतर आया जिसके कारण मुझे और मेरी पत्नी और बच्चों को काफी नुकसान हुआ है। इस घटना के कारण मैं और मेरा परिवार मानसिक और शारीरिक रुप से बहुत परेशान हुआ है।

थाना प्रभारी जी से मेरा नम्र निवेदन है कि आप जल्द से जल्द इस घटना क्रम के खिलाफ कड़े और ठोस कदम उठाएं जिससे हमें कोई दिक्क्त ना हो और हम अपना जीवन शांति से गुजारे। मैं आपका सदैव आभारी रहूँगा धन्यवाद।

आपका विश्वासी
नाम – रमेश सिंह
मोबाइल नंबर – 1234567891
दिनांक -…./…/…
हस्ताक्षर – अपने हस्ताक्षर करें

पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन पत्र से सम्बंधित प्रश्न/उत्तर

पुलिस को शिकायत के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखें?

पुलिस को शिकायत के लिए एप्लीकेशन लिखने की जानकारी हमने ऊपर आर्टिकल में दे दी है आप देख सकते हैं।

क्या थाना प्रभारी को लड़ाई झगड़ा के संदर्भ में आवेदन पत्र लिख सकते हैं?

जी हाँ, किसी भी समस्या का निवारण करने के लिए आप थाना प्रभारी को पत्र लिख सकते हैं।

पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट कैसे लिखी जाती है?

रिपोर्ट लिखने के लिए आपको FIR फॉर्म मिलता है इसमें आपको घटना की लोकेशन, घटना का समय एवं आपके साथ क्या घटना घटी है इस विषय में आपको सम्पूर्ण जानकारी बतानी है। इसके अतिरिक्त आपको अपना नाम, एड्रेस, माता का नाम, पिता का नाम एवं अपनी ईमेल आईडी को दर्जा करना होता है।

पुलिस इंस्पेक्टर को जब हम पत्र लिखते हैं तो हमें किस पुलिस स्टेशन का पता लिखना होता है?

पुलिस इंस्पेक्टर को जब हम पत्र लिखते हैं तो हमें अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन का पता लिखना होता है।

इस लेख में हमने पुलिस या थाना प्रभारी शिकायत को आवेदन पत्र या एप्लीकेशन कैसे लिखें से सम्बंधित आपको सम्पूर्ण जानकारी को साझा कर दिया है यदि आपको लेख से जुड़ी अन्य जानकारी या कोई प्रश्न पूछना है तो इसके लिए आप नीचे दिए हुए कमेंट सेक्शन में अपना प्रश्न पूछ सकते हैं हमारी टीम द्वारा जल्द ही आपके प्रश्नों का उत्तर दिया जाएगा। इसी तरह के अन्य लेख, शिक्षा से जुड़ी जानकारी एवं सरकारी योजनाओं के बारे में जानने के लिए आप हमारी साइट hindi.nvshq.org को विजिट कर सकते हैं। उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो और आपको सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त हुई हो धन्यवाद।

Kargil Vijay Diwas: कारगिल विजय दिवस क्यों मनाया जाता है ? जानिए इसका इतिहास

Kargil Vijay Diwas: कारगिल विजय दिवस क्यों मनाया जाता है ? जानिए इसका इतिहास

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें