बीआरओ (BRO) का मतलब क्या है | BRO Full Form | कार्य | स्थापना | मुख्यालय

Photo of author

Reported by Dhruv Gotra

Published on

बीआरओ (BRO) क्या है: दोस्तों जैसा की आप जानते हैं हमारा देश भारत अपनी सीमाएं दुश्मन और मैत्रीपूर्ण देशों के साथ साझा करता है। यह सीमा क्षेत्र कठिन पहाड़ी रास्तों, खाड़ी आदि से घिरे हुए हैं। इन सभी क्षेत्रों में हमारे देश की सेना और सीमा सुरक्षा बल 24 घंटे सीमाओं की सुरक्षा के लिए तैनात रहते हैं। लेकिन ऐसे पहाड़ों वाले इलाकों में दोस्तों सेना के जवानों तक जरूरी पहुँचाना बहुत बड़ी चुनौती होती है। ऐसे में इन सभी समस्याओं के हल हेतु कार्य करता है। BRO सीमा सड़क संगठन जिसने ऐसे सभी क्षेत्रों में पूरा सड़क नेटवर्क स्थापित किया है और यह काम लगातार किया जा रहा है। आगे आर्टिकल में हम आपको BRO के मुख्यालय, स्थापना, कार्य आदि से संबंधित जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं।

बीआरओ (BRO) का मतलब क्या है |
BRO Full Form | कार्य | स्थापना | मुख्यालय

BRO की फुल फॉर्म क्या है ?

BRO की फुल फॉर्म है Border Roads Organization जिसको हिंदी में ‘सीमा सड़क संगठन’ कहा जाता है। दोस्तों BRO भारत सरकार के आधीन कार्य करने वाला संगठन है जो देश के सीमावर्ती इलाकों में सड़क नेटवर्क बनाने का कार्य करता है। यह संगठन भारतीय सेना का एक अभिन्न अंग है। देश के सीमावर्ती इलाकों में सड़कों के विकास एवं रखरखाव का कार्य बीआरओ के द्व्रारा ही किया जाता है।

BRO के द्वारा किये गए उत्कृष्ट (Excellent) कार्य ?

  • दोस्तों आपको यह जानकार बड़ा ही गर्व होगा की भारत के पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में बीआरओ ने वर्ष 2021 में 19,024 फ़ीट की ऊंचाई जहाँ पर तापमान सर्दियों में शून्य से बहुत नीचे चला जाता है वहां सबसे ऊँची मोटरेबल सड़क का निर्माण किया है। आपको हम बताते चलें इस सड़क को विश्व के सबसे प्रसिद्ध गिनीज ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया है। यूनाइटेड किंगडम ब्रिटेन में स्थित Guinness Book World Record के द्वारा बीआरओ को नाम दर्ज कराने के लिए Certificate दिया जा चूका है।
  • दोस्तों BRO ने वर्ष 2015 तक लगभग 50,000 किलोमीटर (31,000) मील सड़कों का निर्माण किया है। इन सड़क मार्ग को 450 से अधिक स्थायी पुलों की सहायता से जोड़ा गया है। यदि हम इन स्थायी पुलों के लम्बाई की बात करें तो यह लगभग 44,000 मीटर (27 मील) से अधिक हो जाती है।
  • बीआरओ ने भारतीय सेना के लिए रणनीति क्षेत्र वाले स्थानों पर 19 हवाई क्षेत्रों का निर्माण भी किया है।

यह भी जानिए :- (OTT Meaning) OTT Kya Hota Hai

बीआरओ की स्थापना (Establishment) कब हुई ?

आपको बताते चलें की बीआरओ की स्थापना 7 मई 1960 को नयी दिल्ली में हुई थी। अपनी स्थापना के समय बीआरओ की शुरुआत दो प्रोजेक्ट्स के तहत की गई थी। जिसमें पहले प्रोजेक्ट का नाम Project Tuskar और दूसरे प्रोजेक्ट का नाम Project Beacon था। लेकिन दोस्तों बाद में प्रोजेक्ट टस्कर का नाम बदलकर प्रोजेक्ट वर्तक कर दिया गया था। आपको बताते चलें की BRO के द्वारा भारत की पूर्ववर्ती सीमा के लिए प्रोजेक्ट वर्तक और पश्चिम सीमा के लिए प्रोजेक्ट Beacon को चुना गया। लेकिन अब वर्तमान में बीआरओ Border Roads Organization अपने 13 से अधिक प्रोजेक्ट के ऊपर कार्य कर रहा है।

BRO का मुख्यालय कहाँ है ?

दोस्तों हम आपको बताते चलें की Border Roads Organization (BRO) का मुख्यालय देश की राजधानी नई दिल्ली (New Delhi) में स्थित है। बीआरओ के मुख्यालय में आपको नए जवानों की भर्ती के लिए प्रशिक्षण केंद्र ट्रेनिंग के लिए नए तरह के संयंत्र उपकरण की सुविधाएं मिलती हैं। यहाँ बीआरओ के मुख्यालय में हाइ क्वालिटी कार्यशाला (workshop) और इंजीनियर स्टोर डिपो का निर्माण किया गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें की BRO ने भारत में ही नहीं बल्कि भारत के पड़ोसी देश अफगानिस्तान, भूटान, म्यांमार और श्री लंका में अधोनिर्मित संरचानओं का निर्माण किया है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

BRO के उद्देश्य (Motive):

बीआरओ के दृषिकोण को देखते हुए निर्धारित उद्देश्य इस प्रकार से हैं जिसको पूरा करने में अनवरत लगा हुआ है –

यह भी देखेंDiwali Simple Rangoli Designs

Diwali Simple Rangoli 2023: सरल रंगोली डिजाइन यहां से चुनें, इस दिवाली घर को सजाएं ट्रेंडी रंगोली से

  • समर्पित, प्रतिबद्ध व किफायत से बुनियादी ढाँचे का विकास करते हुए सशस्त्र बलों को उनकी सामरिक जरूरतों को पूरा करने में मदद करना।
  • निर्माण के बदलते परिदृश्य में समय की मांग के अनुरूप अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की विशिष्ट गुणवत्ता किफायती के साथ हासिल करना।
  • एजेंसी, अन्तर्देशीय व देशी विकास परियोजनाओं में भागीदारी बढ़ाकर अपनी क्षमता व विशेषज्ञता में वृद्धि करना।
  • अत्याधुनिक तकनीकी का इस्तेमाल, उसके अनुरूप ढ़ालना व विकास में नेतृत्व हासिल करना।
  • सूचना प्रोद्यौगिकी के अधिकाधिक प्रयोग द्वारा सही समय पर सटीक व प्रभावी फैसला लेने का वातावरण तैयार करना।
  • प्रतिस्पर्धा के आधार पर निर्माण गतिविधियों में उच्च स्तर की कुशलता व प्रवीणता हासिल करना।
  • संगठन के प्रत्येक व्यक्ति में आत्म-सम्मान व नई ऊर्जा सुनिश्चित करने के लिए मूल्यों के प्रति समझ पैदा करना।

सीमा सड़क संगठन की भूमिका

  • शांतिकाल में – सीमावर्ती इलाकों में जनरल स्टाफ की ऑपरेशनल सड़कों का विकास व रखरखाव व सीमावर्ती राज्यों के आर्थिक व सामाजिक उत्थान में योगदान करना।
  • युद्धकाल में – वास्तविक इलाकों से तथा पुनर्तैनाती इलाकों से नियंत्रण रेखा के लिए सड़क का विकास व देखभाल करना। सरकार द्वारा युद्धकाल के दौरान विनिर्दिष्ट अन्य अतिरिक्त कार्यों का निष्पादन करना।

बीआरओ के कार्य (BRO Functions):

बीआरओ ने अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अपने लिए कुछ कार्य निर्धारित किये हैं जो इस प्रकार से
हैं –

  • बीआरओ देश की राज्य सरकारों, अर्ध-सरकारी संगठन और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के द्वारा दिए गए प्रोजेक्ट की पूर्ति हेतु कार्य करता है।
  • BRO कॉन्क्रीट सड़क, स्थायी पुल, एयरफील्ड का निर्माण बड़े क्षेत्रों में किया है।
  • BRO के पास ही देश की सीमावर्ती इलाकों में बनी सड़क का विकास एवं रख-रखाव का निर्माण का सम्पूर्ण जिम्मा है।
  • युद्ध जैसी आपातकालीन के समय भारतीय सेना और सीमा सुरक्षा बल को हर सम्भव मदद पहुंचाने का कार्य भी BRO के बहादुर जवानों के द्वारा किया जाता है।
  • बीआरओ रक्षा विभाग और केंद्र सरकार के अंतर्गत कार्य करने वाले विभागों के सौपें गए प्रोजेक्ट्स और कार्यों को करता है।

बीआरओ परियोजनाओं की सूची :

  • पूर्वी क्षेत्रों में कार्यरत परियोजनाओं के नाम :
    • अरुणांक
    • ब्रैम
    • दंतक
    • पुष्पक
    • सेतुक
    • सेवक
    • स्वास्तिक
    • उदयक
    • वर्तक
  • पश्चिमी क्षेत्रों में कार्यरत परियोजनाओं के नाम :
    • बीकन
    • चेतक
    • दीपक
    • हिमांक
    • हीरक
    • रोहतांग टनल
    • संपर्क
    • शिवालिक
    • विजयक

BRO से संबंधित Frequently Asked Question (FAQs):

वर्तमान में BRO के महानिदेशक कौन हैं ?

वर्तमान में BRO के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी जी हैं।

बीआरओ की ऑफिसियल वेबसाइट कौन सी है ?

बीआरओ की ऑफिसियल वेबसाइट bro.gov.in है।

बीआरओ का हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

बीआरओ के हेल्पलाइन नंबर की डिटेल्स इस प्रकार से है –
Between 09 Hrs to 17:30 Hrs
(Monday to Friday except GH/Closed Holidays)
011-25686822
011-25686823
Between 17:30 Hrs to 09:00 Hrs
(Monday to Friday except GH/Closed Holidays)
011-25686002

यह भी देखेंदोना पत्तल मशीन की कीमत तथा बिज़नेस से जुड़ी पूरी जानकारी देखें

दोना पत्तल मशीन की कीमत तथा बिज़नेस से जुड़ी पूरी जानकारी देखें

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें