पढ़ाई में मन कैसे लगाये? (11 उपाय) How to Concentrate on Studies in Hindi?

Photo of author

Reported by Rohit Kumar

Published on

आज कल की स्ट्रेस (stress) और तनाव भरी लाइफ में किसी भी एक कार्य में पूरा ध्यान और Focus करना बहुत ही मुश्किल है। यदि हम बात करें आजकल की Lifestyle और Study के बारे में बच्चों का अधिकतर समय अब मोबाइल और कंप्यूटर गेम्स को खेलने में बीतने लगा है जिस कारण बच्चे कई बार अपनी स्टडी में ध्यान नहीं लगा पाते। जिससे स्टूडेंट्स की पढ़ाई का बहुत नुकसान होता है। आज हम आपको बताने वाले है की पढ़ाई में मन कैसे लगाये (How to Concentrate on Studies) पढाई में आपका भी मन नहीं लगता तो यहां दी गयी जानकारी आपके लिए काफी कारगर साबित होगी।

How to Concentrate on Studies
पढ़ाई में मन कैसे लगाये? (11 उपाय) How to Concentrate on Studies

दोस्तों आज कल के बच्चों की यही सबसे बड़ी समस्या है की पढ़ाई में मन नहीं लगता , How to Concentrate on Studies हम देखते हैं की माता-पिता बच्चों के पढ़ाई ना करने पर कई बार बहुत ही सख्त व्यवहार अपनाते हुए पिटाई तक कर देते है। लेकिन बच्चों द्वारा यह कहा जाना की जब हम पढ़ते हैं तो पढ़ा हुआ ज्यादा लम्बे समय तक याद नहीं रहता , हम कितनी ही कोशिश कर लें पढ़ाई के लिए ज्यादा देर तक नहीं बैठ सकते। लेकिन दोस्तों आपको यह समझना होगा की पढ़ाई में मन ना लगना, यह सिर्फ बच्चों पर निर्भर नहीं करता इसके लिए कुछ हद तक हमारी शिक्षा पद्धति , शिक्षक , अभिभावक और माता-पिता भी जिम्मेदार हैं।

दोस्तों आज का हमारा लेख भी इस विषय पर आधारित की यदि पढ़ाई में मन ना लगे तो ऐसे कौन से उपाय किये जा सकते हैं जिससे हमारी Concentrate पावर बढ़ सके। हम अपना ध्यान पढ़ाई में कैसे केंद्रित करें, पढ़ाई में मन कैसे लगाये। आज हमने अपने इस आर्टिकल में आपको कुछ ऐसे Tips and Tricks के बारे में बताया है जिनको अपना कर आप पढ़ाई में सुधार कर सकते हैं दोस्तों यदि आप भी अभिभावक या स्टूडेंट्स हैं तो आपको हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरूर पढ़ना चाहिए।

यह भी पढ़ें: New Education Policy PDF (NEP)

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

पढ़ाई (Study) में मन ना लगने के 10 कारण:

बहुत से स्टूडेंट्स की शिकायत रहती है की जब भी वो पढ़ने बैठते हैं उनका मन पढ़ाई में नहीं लगता परन्तु क्या आपने सोचा की इसके पीछे क्या कारण है जो स्टूडेंट पढ़ाई में अपना ध्यान नहीं लगा पाते। आइये जानते और समझते हैं ऐसे कुछ कारणों को –

  1. स्टूडेंट का किसी दबाव में पढ़ाई करना (Student studying under any pressure): यदि स्टूडेंट किसी दबाव में है या दबाव में है तो जाहिर सी बात है की उसका मन पढ़ाई में नहीं लगेगा। हम अपने आस-पास देखते हैं की कई माता-पिता बच्चों के ऊपर अच्छे से अच्छे अंक , क्लास में टॉप करने का दवाब बनाते है। माता-पिता को हम अक्सर यह कहते सुन लेते हैं देखो उनका बच्चा पढ़ाई में कितना अच्छा है और एक तुम हो की बस सारा दिन खेलते रहते हो। दूसरों के साथ इस तरह की तुलना बच्चों के अंदर एक तरह की हीन भावना को जन्म देती है जो की नहीं होनी चाहिए।
  2. घर में पढ़ाई हेतु उचित वातावरण ना मिल पाना (Lack of proper environment for studies at home): यदि बच्चे को घर पर पढ़ने के सही माहौल और वातावरण ना मिले तो बच्चा अपनी पढ़ाई में Focus नहीं कर पाता। यदि घर में बड़े-बुजुर्गों के बीच लड़ाई झगड़े होते रहते हैं तो इसका बुरा असर बच्चों की मानसिक स्थिति पर पड़ता है जो की उनकी पढ़ाई के बीच सबसे बड़ी बाधा है। आप यहाँ पर यह समझ लें की पढ़ाई हेतु घर का माहौल या वातावरण सकारात्मक और अच्छा होना चाहिए।
  3. बच्चे का सब्जेक्ट (subject) में रूचि ना लेना (Child not taking interest in the subject): कई बार हम देखते हैं की माँ-बाप बच्चे को ऐसा सब्जेक्ट को चुनने का दबाव बना देते हैं जो की बच्चे के रूचि का नहीं होता। यदि पढ़ाये जाने वाले सब्जेक्ट बच्चे की रूचि (Interest) के नहीं है तो वह कभी भी ऐसी पढ़ाई में interest नहीं लेगा। कई बार तो यह भी देखा गया है की बच्चे माँ-बाप के दवाब में सब्जेक्ट तो चुन लेते हैं अच्छे अंक ना आने के दवाब और डर की वजह से बच्चे आत्महत्या (suicide) जैसा कदम उठा लेते हैं जो की हमारी आने वाली पीढ़ियों के बिलकुल भी सही नहीं है। हम मां-बाप से यही अनुरोध करेंगे की पढ़ाई हेतु subject चुनते वक्त बच्चे की रूचि जान लेना बहुत जरूरी है।
  4. बच्चे की शारीरिक और मानसिक स्थिति सही ना होना (Improper physical and mental condition of the child): दोस्तों जैसा की आप जानते हैं की किसी भी कार्य में सफल होने के लिए आपका 100 प्रतिशत तन और मन से Involve होना जरूरी है। यदि बच्चा किसी भी रूप में शारीरिक और मानसिक समस्या से ग्रसित है तो वह कभी-भी अपनी पढ़ाई में ध्यान केंद्रित नहीं कर पायेगा। यदि आपको लगता है की बच्चे में कोई समस्या है तो किसी कंसलटेंट या डॉक्टर से मिलकर समस्या का समाधान निकालें। यह बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास हेतु बहुत जरूरी है।
  5. पढ़ाई में एकाग्रता (Concentrate Power) की कमी होना (Lack of concentration power in studies): जैसा की हम आपको पहले ही बता चुके हैं यदि बच्चा किसी समस्या से झूझ रहा है तो वह कभी भी पढ़ाई में ध्यान नहीं लगा पायेगा। इसके लिए आप बच्चों को योगा और कुछ ऐसी आउटडोर एक्टिविटी करवाएं जिससे बच्चे में ध्यान करने की क्षमता विकसित हो। एकाग्रता को बढ़ाने के लिए आप बच्चों से कह सकते हैं वह सुबह जल्दी उठकर Meditation और योग करें।
  6. पढ़ाई के महत्व को ना समझना (Not understanding the importance of studies): बचपन में हर कोई चंचल स्वभाव का होता है। बचपन में बड़ों द्वारा कही गई बातों को बच्चे ज्यादा गंभीर तरीके से नहीं लेते। दोस्तों ऐसे हम कहेंगे की बच्चों के माता-पिता या अभिभावक को बच्चों से बात कर उन्हें प्यार से पढ़ाई के महत्त्व के बारे में समझाना चाहिये। हो सकता है बच्चे एक बार समझाने में ना समझे लेकिन अगर समय-समय पर उनकों पढ़ाई का महत्व याद दिलाते जाएंगे तो वह जरूर समझेंगे।
  7. गैजेट्स और टीवी का अधिक प्रयोग (Excessive use of gadgets and TV): दोस्तों जैसा की आप जानते हैं की टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन को आसान तो बनाया है। लेकिन इस टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन में इतनी अधिकता हो गई है हम अपने कार्यों में कई बार Focus नहीं कर पाते हैं। आप तो यह समझते ही हैं की किसी भी चीज़ की लत अच्छी नहीं होती इसलिए टेक्नोलॉजी और गैजेट्स का उतना ही उपयोग करें जिससे आपकी पढ़ाई Disturbed ना हो।
  8. जरूरत से ज्यादा तनाव लेना (overstress): स्ट्रेस लेना कभी भी हमारे शरीर के लिए अच्छा नहीं होता है। आप जितना ज्यादा तनाव लेंगे यह आपके शरीर पर उतना ही बुरा प्रभाव डालता है। स्ट्रेस से दूर रहने के लिए आप सबसे पहले मन को शांत रखें। हमेशा अपने आप मोटीवेट करते रहें। अपनी सोच को सकारात्मक (Positive) रखें।
  9. अपने विषय से संबंधित सही Study Material का पता ना होना (Not knowing the right study material related to your subject): पढ़ाई में फेल होने का सबसे बड़ा कारण यह भी है कोई बच्चों को गाइड करने वाला हो की उन्हें कहाँ और किस स्त्रोत से पढ़ना चाहिए। यदि वह इस तरह पढ़ते हैं की उन्हें अपने विषय के संबंध में जानकारी नहीं है तो पढ़ने का कोई लाभ नहीं इससे दूसरों को भी उस विषय के संबंध में ज्ञान नहीं दे पाएंगे।
  10. पूरी नींद ना लेना (sleep deprivation): दोस्तों नींद प्रकृति द्वारा दिया गया हम इंसानों को एक अनमोल वरदान है। लेकिन यदि आप पूरी नींद नहीं लेते हैं तो यह आपके शरीर में कई रोगों के जन्म का कारण बनता है। हम बच्चों से कहेंगे की एक स्वस्थ शरीर के लिए 7 से 8 घंटे की पूरी नींद लेना बहुत जरूरी है।

पढ़ाई में मन लगाने के 11 उपाय (11 Methods of How to Concentrate on Studies):

पढ़ाई में मन लगाने (Focus on Study Tips) हेतु आप यहां पर बताये गए निम्नलिखित 11 उपायों को अपनाकर अपनी पढ़ाई में सुधार ला सकते हैं –

  1. पढ़ाई वाले स्थान साफ़ और स्वस्छ रखें: जिस तरह से हम अपने शरीर को साफ़ और स्वस्छ रखने के लिए रोज़ नहाते हैं वैसे ही जहाँ हमारी पुस्तकें और किताबें हो वो स्थान भी साफ़ और स्वस्छ होना चाहिए।
  2. रोज सुबह जल्दी उठकर ध्यान और योगा करें: रोज सुबह जल्दी उठने की आदत बनाएं। अपने बड़े-बुजुर्गों से भी कहते सुना होगा की रोज़ सुबह जल्दी उठकर कसरत करने से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है। दोस्तों जैसा आप जानते हैं की स्वस्थ शरीर में स्वच्छ मन का वास होता है। स्वस्थ रहने के लिए योगा एवं ध्यान को अपनी दिनचर्या में शामिल कीजिये।
  3. अपना लक्ष्य निर्धारित करें: जीवन में कुछ भी बड़ा करने के लिए आपका लक्ष्य निर्धारित होना चाहिए। बिना लक्ष्य के जीवन का कोई अर्थ नहीं। आपका लक्ष्य ही आपको हमेशा प्रेरित करता रहता है।
  4. तनाव को दूर और मन को शांत रखें: जितना हो सके अपने आप को तनाव से दुर रखें। यदि आपका मन शांत है और आप तनाव रहित हैं तो आपने कार्य में अच्छे ढंग से ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
  5. पढ़ने वाले विषय के Study नोट्स बनाएं: पढ़ते समय हमेशा एक कॉपी और पेन अपने पास रखें ताकि आपको अपने विषय में जो भी महत्वपूर्ण लगे उसे लिखकर नोट कर सकें। यदि हम पढ़कर किसी बात , प्रश्न , उत्तर आदि को लिखते हैं तो वह हमें लम्बे समय तक याद रहती है।
  6. अपने आप को Motivate करने के लिए अच्छे Writers की बुक्स पढ़ें: दोस्तों मार्केट में आपको ऐसी बहुत सी किताबें मिल जाएंगी जो किसी न किसी अच्छे और बड़े writer के द्वारा लिखी गई हो। ऐसा भी कहा जाता है की जीवन में अच्छी किताबें और अच्छे दोस्त का होना बहुत जरूरी है जो समय रहते आपकी हर पल मदद कर सके।
  7. study हेतु एक निश्चित टाइम टेबल बनाएं: यदि आप अपने पढ़ने का टाइम टेबल पूर्व ही निर्धारित करके रखेंगे आप अपने विषय को अच्छी तरह से समझ सकते हैं। बेहतर स्टडी प्लान के लिए टाइम टेबल होना बहुत जरुरी ही
  8. टेक्नोलॉजी और गैजेट्स से दूरी बनाएं: पढ़ाई करते वक्त अपने मोबाइल , टैब आदि को दूर रखें। क्योंकि गैजेट्स आपका ध्यान भटकाने का काम करते हैं। जब भी पढ़ने बैठे तो मोबाइल को साइलेंट मोड पर रखकर अपने से दूर रखें।
  9. पढ़ाई के लिए घर का वातावरण शांत होना चाहिए: पढ़ाई के लिए सबसे जरूरी चीज़ की आपके घर और आस-पास का मौहाल कैसा है। माहौल साफ , शांत रहेगा तो कोई भी अपनी पढ़ाई में फोकस कर सकता है।
  10. हमेशा अपनी सोच सकारात्मक रखें: जीवन का सबसे बड़ा मूल मंत्र यही है की हमेशा अपने आप को सेल्फ मोटीवेट करते रहें। निराश और दुखी व्यक्ति कभी भी अपने जीवन में सफलता प्राप्त नहीं कर सकता।
  11. लगातार ना पढ़ें बीच-बीच में ब्रेक लेते रहें: एक्सपर्ट्स मानते हैं की लगातार पढ़ाई करने से भी हमारे दिमाग में बहुत स्ट्रेस होता है। इसलिए जब भी पढ़ने बैठे तो बीच-बीच में थोड़ा-थोड़ा छोटे-छोटे ब्रेक लेते रहें।

पढ़ाई में मन कैसे लगाये इससे संबंधित प्रश्न एवं उत्तर (FAQs):

पढ़ाई में मन लगने के 5 मंत्र क्या है ?

1 आप अपने जीवन में अनुशासन को शामिल करें।
2 पढ़ाई के लिए एक नियमित टाइम टेबल बनाएं।
3 अपने आप को मोटीवेट करने के लिए महान व्यक्तियों द्वारा लिखित अच्छी बुक्स पढ़ें।
4 सुबह उठकर नियमित रूप से मेडिडेशन और योग करें।
5 पढ़ाई वाले स्थान को साफ़ स्वस्छ रखें

एकाग्रता की कमी को दूर करने के लिए क्या करें ?

यह भी देखेंNew Education Policy PDF (NEP) नेशनल एजुकेशन पॉलिसी 2023 - नई शिक्षा नीति | National Education Policy - NEP 5+3+3+4 Structure PDF

नेशनल एजुकेशन पॉलिसी 2020 - नई शिक्षा नीति | National Education Policy - NEP 5+3+3+4 Structure PDF

आप दिमाग वाले खेल (जैसे : पज़ल , चैस, वर्ड मैचिंग) खेलकर भी अपनी एकाग्रता बढ़ा सकते हैं।
रोज़ नियमित रूप से योगा और ध्यान करने से
काम करने या पढ़ाई के बीच थोड़े-थोड़े समय के लिए छोटे-छोटे ब्रेक लेते रहें।
सर की मसाज हेतु अपने फिजिशियन से मिल सकते हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

भारत में टॉप ऑनलाइन एजुकेशनल पोर्टल कौन से हैं ?

भारत में टॉप ऑनलाइन एजुकेशनल पोर्टल की लिस्ट इस प्रकार से है –
बायजूस (BYJU’s)
टाटा स्टडी (Tata Study)
माय सीबीएसई गाइड (myCBSEGuide)
टॉपर (Toper)
मेरिटनेशन (Meritnation)
अनअकैडमी (Unacademy)
वाइट हैट जूनियर (Whitehat jr)
डाउटनट (Doubtnut)
वेदान्तु (Vedantu)
स्टडी आईक्यू (Study IQ)
टेस्टबुक (Testbook)
यूट्यूब (Youtube)

एक स्वस्थ मानव शरीर को कितने घंटे नींद लेनी चाहिए ?

वैज्ञानिकों के अनुसार एक स्वस्थ मानव शरीर को कम से कम 7 से 8 घंटे नींद लेनी चाहिए।

बायजूस (BYJU’s) के संस्थापक कौन हैं ?

बायजूस (BYJU’s) के संस्थापक बायजू रविन्द्रन और Divya Gokulnath जी हैं।

यह भी जानें:

यह भी देखेंहिंदी नैतिक कहानियां - Short Moral Stories in Hindi

हिंदी नैतिक कहानियां - Short Moral Stories in Hindi

Photo of author

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें