उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना यूपी | UP Bal Shramik Vidya Yojana ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म

उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना – यूपी बाल श्रमिक योजना की शुरुआत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा शुरू की गयी है। बाल श्रमिक योजना की घोषणा 12 जून 2020 शुक्रवार को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर की गयी। इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के उन सभी बच्चो को मिलेगा जो बाल श्रम कर रहे है। उन्हें स्कूल जाने में मदद मिलेगी और साथ ही सरकार हर महीने बालको को 1000 रूपये की छात्रवृति दी जायेगी और छात्राओं को हर महीने 1200 रूपये दिए जायेंगे। जिससे की उन्हें पढ़ने की उम्र में काम न करना पड़े। और बच्चे अपनी पढ़ाई भी पूरी कर सके। आज हम आपको उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना से जुडी सारी जानकारी साझा करेंगे आप आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

उत्तरप्रदेश-बाल-श्रमिक-विद्या-योजना

उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना

सीएम योगी आदित्यनाथ जी ने 12 जून को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में बाल श्रमिक योजना का उद्घाटन किया। 2011 की जनगणना के अनुसार पहले चरण में 2000 बच्चो की सूची बनाई गयी है। 13 मंडलो के 20 जिलों में से इन बच्चो का चयन किया गया जिन्हे लाभ प्राप्त होगा। यानी की इन क्षेत्रो में 2011 की गणना के अनुसार इन जिलों में बाल श्रम अधिक होती है। इसलिए पहले इन राज्यों के बच्चो का चयन पहले चरण में कर दिया गया है।

इसके अलावा जो बच्चे कक्षा 8, कक्षा 9 और कक्षा 10 के बच्चे पास होंगे उन्हें 6 हजार रूपये प्रोत्साहन के रूप में दिए जायेंगे। और ध्यान दे पहले श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों के लिए पहले कैश ट्रांसफर योजना चला रहे थे और इसके अंतर्गत बाल श्रमिकों को हर वर्ष 8 हजार रूपये और हर महीने 100 रूपये की छात्रवृति दी जाती थी सरकार ने इस योजना में बदलाव करके इसका इसे बाल श्रमिक विद्या योजना का नाम दे दिया।

UP Bal Shramik Vidya Yojana 2021

योजना का नाम बाल श्रमिक विद्या योजना
किसके द्वारा घोषणा की गयीसीएम योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा
लाभार्थीयूपी के छात्र और छात्राएं
विभागश्रम विभाग
उद्देश्यहर एक बच्चा स्कूल जा सके
आवेदनअभी आवेदन की जानकारी नहीं
छात्रों को राशिहर महीने 1000 रूपये
छात्राओं को राशिहर महीने 1200 रूपये

बाल श्रमिक विद्या योजना यूपी के उद्देश्य

जैसे की आप सब जानते ही है की देश में बहुत सारे बच्चे ऐसे है की जिनकी आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण, या अनाथ होने के कारण काम करते है। जिससे की बच्चो को कम उम्र में काम करने पड़ते है और ऐसे में बच्चो का बचपन खराब हो जाता है और वे न तो अपने पढ़ाई कर पाते है और न ही अपना बचपन जी पाते है। इसी समस्या को देखते हुए यूपी सरकार ने ऐसे बच्चो के लिए बाल श्रमिक विद्या योजना की शरुआत की है। जिससे की छात्र को आर्थिक सहायता देकर उसका भविष्य उज्ज्वल कर सकते है।

इस योजना का यही उद्देश्य है की कोई भी बच्चा चाहे वो लड़की हो या लड़का हो वो बाल श्रम ना करे और स्कूल जा सके। यूपी सरकार की इस योजना से कही बच्चे लाभान्वित होंगे और उन्हें पढ़ने के लिए किसी से भी पैसे लेने की जरूरत नहीं होगी। और वे आर्थिक तंगी के कारण जबरदस्ती या मज़बूरी में काम करने के लिए विवश नहीं होंगे।

उत्तरप्रदेश-बाल-श्रमिक-विद्या-योजना
बाल श्रमिक विद्या योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज –
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • बच्चे का पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाते का अकाउंट नंबर
  • मोबाइल नंबर

UP Bal Shramik Vidya Yojana के लाभ

  • बाल श्रम विकास योजना के अंतर्गत छात्र को हर महीने 1 हजार रूपये की राशि दी जाएगी
  • इस योजना के अंतर्गत बालिकाओं को पढ़ने के लिए हर माह 12,00 रूपये दिए जायेंगे।
  • उत्तर प्रदेश के कक्षा 8, कक्षा 9, कक्षा 10 में पास होने के बाद लाभार्थी विद्यार्थियों को आगे पढ़ाई की प्रोत्साहन के लिए 6 हजार रूपये दिए जायेंगे।
  • यदि माता पिता या फिर दोनों किसी लाइलाज रोग से पीड़ित हैं तो उनके बच्चों को चयन में प्राथमिकता दी जायेगी। इसके लिए लाभार्थियों को सीएमओ के द्वारा जारी प्रस्तुत करना होगा।
  • जो बच्चे बाल श्रम करते है उन्हें अब काम नहीं करना पड़ेगा और वे अपनी पढ़ाई आसानी से कर सकते है।
  • और यूपी सरकार ऐसे बच्चे को भी स्कूल भेजने में मदद करेगी जो बाल श्रमिक में नहीं आते है।
  • पहले चरण में इस योजना के अंतर्गत 2000 बच्चे ऐसे पाए गए है जो बाल श्रम करके अपना जीवन व्यतीत कर रहे थे।
  • इस योजना से बहुत सारे बच्चो को लाभ प्रदान होगा।
  • हर जिले के 100 -100 बाल श्रमिकों को इस योजना के अंतर्गत रखा गया है।
  • योजना के कार्यान्वयन एवं श्रमिक बच्चों की पहचान श्रम विभाग के अधिकारीयों के सर्वेक्षण में स्थनीय निकायों ,ग्राम पंचायतों ,विद्यालय समिति परिषद एवं चाइल्ड लाइन के द्वारा किया जायेगा।
UP Bal Shramik Vidya Yojana के लिए पात्रता
  • बाल श्रमिक उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए, जो चयनित 57 जिलों में रहते है।
  • इस योजना का लाभ 8 से 18 वर्ष के छात्र छात्राओं को मिलेगा।
  • जिन बच्चो के माता पिता नहीं है या कोई एक भी नहीं है तो वे भी इस योजना के पात्र है।
  • अगर बच्चो के माता -पिता बीमार रहते है तो वो भी योजना के पात्र होंगे।
  • यदि बच्चो के माता -पिता दोनों दिव्यांग है या दोनों में से कोई एक भी दिव्यांग है तो उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा।

बाल श्रमिक विद्या योजना के लिए आवेदन कैसे करे ?

आपको बता दे सरकार ने अभी इसके लिए आवेदन प्रक्रिया की कोई जानकारी नहीं दी है और न ही कोई ऑफिसियल लिंक इसके लिए जारी किया है। लेकिन यूपी सरकार ने घोषणा की है योजना के अंतर्गत आने वाले लाभार्थियों के खाते में पैसे ट्रांसफर कर दिए जायेंगे। जब भी यूपी सरकार आवेदन से जुडी कोई भी जानकारी देती है तो हम आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से अपडेट कर देंगे।

UP Bal Shramik Vidya Yojana से जुड़े कुछ प्रश्न और उनके उत्तर –

यूपी बाल श्रमिक योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में कितने बच्चो का चयन किया गया है ?

यूपी बाल श्रमिक योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में 2000 बच्चो का चयन किया गया है।

बाल श्रमिक विद्या योजना के अंतर्गत छात्र छात्राओं को कितने रूपये की राशि दी जायेगी ?

इस योजना के अंतर्गत छात्रों को प्रतिमाह 1000 रूपये दिए जायेंगे और छात्राओं को 1200 रूपये दिए जायेंगे। कक्षा आठ, नौ और दशवी की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद 6 हजार रूपये दिए जायेंगे।

उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना का पूराना नाम क्या है ?

उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना का पूराना नाम- कंडीशनल कैश ट्रांसफर ट्रांसफर योजना है।

बाल विद्या श्रमिक योजना का उद्देश्य क्या है ?

इस योजना का उद्देश्य यही है की जितने भी बच्चे बाल श्रम कर रहे है उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करना है जिससे की बच्चे स्कूल जा सके और अपना भविष्य बना सके।

UP बाल श्रमिक विद्या योजना में कितने वर्ष के बच्चों का योजना के अंतर्गत शामिल किया गया है ?

राज्य के 8 वर्ष की आयु से लेकर 18 वर्ष तक की आयु वाले उन सभी कामकाजी बच्चों को बाल श्रमिक विद्या योजना में शामिल किया गया है जो संगठित एवं संगठित क्षेत्रों में काम करके अपने परिवार की मदद करते है।

वित्तीय वर्ष के अनुसार बालक एवं बालिका को कितनी राशि बाल विद्या योजना के तहत प्रदान की जाएगी ?

बाल विद्या योजना के तहत श्रमिक कामकाजी बालकों को हजार रूपए प्रतिमाह के आधार पर 12 हजार रूपए एवं बालिकाओं को 1200 रूपए प्रतिमाह के अनुसार 14400 रूपए की राशि प्रदान की जाएगी।

तो जैसे की हमने आपको बाल श्रमिक विद्या से जुडी सारी जानकारी साझा कर दी है यदि आपको इस योजना से जुडी कोई भी जानकारी चाहिए या आपको कोई समस्या है तो आप हमे नीचे कमेंट बॉक्स में मेसेज कर सकते है।

Leave a Comment